समाचार

फिर PK भरोसे कांग्रेस, सोनिया-राहुल को दिया 2024 में जीत का मंत्र, कांग्रेस में आने का मिला ऑफर

पिछले कई साल से राज्यों के विधानसभा चुनाव हों या पिछला लोकसभा चुनाव हो PK यानि प्रशांत किशोर बीजेपी को हराने के सबसे बड़े रणनीतिकार के तौर पर सामने आते हैं और पार्टियों को राजनीति के दांव पेंच सिखाते हैं। पार्टियां भी इनको खूब भाव देती हैं जैसे इनके खुद के नेता, रणनीतिकार, विचारक या थिंक टैंक बेकार हो चुके हों।

कांग्रेस भी कई मौकों पर प्रशांत किशोर की मदद लेती रहती है, जब चुनाव में पटखनी खाती है तो फिर उनकी शरण में पहुंच जाती है। यह प्रशांत किशोर की रणनीतिक समझदारी तो दिखाती ही है, साथ ही कांग्रेस की रणनीतिक दिवालियेपन को भी दर्शाती है। शायद इसी रणनीतिक दिवालियापन से बचने के लिए अब प्रशांत किशोर को कांग्रेस में आने का ऑफर मिल रहा है। क्या है पूरा मामला आपको आगे बताते हैं-

2024 की तैयारी में कांग्रेस

2024 के लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी में गहन मंथन का दौर शुरू हो गया है। इसी कड़ी में पार्टी ने आज दिल्ली में एक अहम बैठक की जिसमें राहुल गांधी से लेकर कांग्रेस के दूसरे दिग्गज नेता शामिल हुए। लेकिन सभी की नजर रणनीतिकार प्रशांत किशोर पर थी जिन्होंने उस बैठक में कांग्रेस के सामने आगे का रोडमैप रखा और एक विस्तृत प्रेजेन्टेशन दिया।

Prashant Kishor

प्रशांत किशोर को मिला ऑफर!

मिली जानकारी के मुताबिक बैठक में प्रशांत किशोर की ओर से लोकसभा चुनाव 2024 के लिए कांग्रेस को जरूरी सुझाव दिए हैं लेकिन पार्टी चाहती है कि इस बार प्रशांत उनके साथ रणनीतिकार की तरह ना जुड़कर एक कार्यकर्ता की तरह काम करें। कांग्रेस का मन है कि प्रशांत किशोर पार्टी में शामिल हो जाएं। अभी तक प्रशांत किशोर की तरफ से इस ऑफर पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है। ऐसे में वे पार्टी में शामिल होते हैं या नहीं,  ये आने वाले वक्त में ही स्पष्ट हो पाएगा।

प्रशांत किशोर ने दिया ये फॉर्मूला!

अभी के लिए उस बैठक में प्रशांत किशोर ने कांग्रेस को कई बड़ी बातें बता दी हैं। एक तरफ पीके ने इस बात पर जोर दिया है कि कांग्रेस को 2024 के लोकसभा चुनाव में सिर्फ उन सीटों पर फोकस करना चाहिए जहां पर उसकी स्थिति पहले से मजबूत है। उनके मुताबिक अगर पार्टी 370 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी, ऐसी स्थिति पार्टी के लिहाज से फायदेमंद रहेगी। उनकी नजरों में बाकी बची सीटों पर कांग्रेस को अपने गठबंधन साथियों को मौका देना चाहिए।

इस बैठक के बारे में केसी वेणुगोपाल ने बताया है कि पार्टी द्वारा एक टीम बना दी गई है। वो प्रशांत किशोर की सलाहों पर मंथन करेगी और एक हफ्ते के भीतर हाईकमान को विस्तृत रिपोर्ट सौंप दी जाएगी।

वैसे प्रशांत किशोर अगर कांग्रेस में शामिल होते हैं तो इसे बड़ा सियासी दांव माना जाएगा। पश्चिम बंगाल में टीएमसी को बड़ी जीत दिलवाने के बाद ही प्रशांत किशोर कह चुके थे कि वे अब बतौर रणनीतिकार काम नहीं करना चाहते हैं। ऐसे में अब उनकी अगली राह क्या राजनीतिक पार्टी के साथ शुरू होगी, ये देखने वाली बात रहेगी।

Back to top button