समाचार

देश का सबसे बड़ा गौ तस्कर अकबर बंजारा गिरफ्तार, हजारों करोड़ संपत्ति का मालिक, विदेश तक नेटवर्क

पुलिस को एक बड़ी कामयाबी मिली है। नॉर्थ-ईस्ट और देश का सबसे बड़ा गौ तस्कर अकबर बंजारा पुलिस के हत्थे चढ़ गया है। उसे मेरठ से गिरफअतार कर लिया गया है। अकबर बंजारा पर 2 लाख रुपए का इनाम था।

मामूली ड्राइवर से बन गया करोड़पति

 उत्तर प्रदेश के मेरठ का एक मामूली डाईवर गौ तस्करी करते-करते न सिर्फ एक हजार करोड़ की संपत्ति का मालिक बन गया बल्कि नॉर्थ ईस्ट में उसने तस्करी और गौवंश मीट का एक ऐसा सिंडिकेट बना डाला जिसका मायाजाल बांग्लादेश तक फैला है। उसके गैंग में 150 से ज्यादा सदस्य हैं। उसके इरादों के आगे नॉर्थ ईस्ट के बड़े-बड़े माफियाओं को घुटने टेकने पड़े। असम पुलिस ने उसपर दो लाख रूपये का इनाम भी घोषित किया था।

 नॉर्थ ईस्ट का डॉन है

यूपी में उसे कोई नहीं जानता लेकिन उसे नॉर्थ ईस्ट का डॉन कहा जाता है। आंध्र प्रदेश और असम समेत नॉर्थ ईस्ट के कई राज्यों में उसके एक इशारे पर कुछ भी हो जाता है। आज उसे लोग गौ तस्करी का बेताज बादशाह कहते हैं, जिसका नाम अकबर बंजारा है।

मेरठ के फलावदा का रहने वाला

मेरठ के फलावदा कस्बे का रहने वाला अकबर बंजारा कभी ड्राइवर हुआ करता था। उसने कभी फलावदा नगर पंचायत के सभासद का चुनाव जीता था। साल 2015 तक अकबर बंजारा को कोई नहीं जानता था। वह गौ तस्कर बनने की हसरत लेकर असम चला गया और 150 तस्करों का गिरोह बना लिया। उसने बडा नेटवर्क खड़ा करने के लिए कई सफेदपोशों से हाथ मिलाया जिनमें नार्थ इस्ट का रवि रेड्डी भी शामिल है।

 गो तस्करी के धंधे में कूदा

अकबर बंजारा ने असम में गौ तस्करी का छोटा सा काम करना शुरू किया फिर धीरे-धीरे उसके नाम की चर्चा होने लगी। तभी आंध्र प्रदेश से विदेशों तक गौ तस्करी का नेटवर्क चलाने वाले रवि रेड्डी को भी अकबर बंजारा का नाम सुनने में आया। बताया जाता है असम के एक और बड़े माफिया ने दोनों को एक दूसरे से मिलवा दिया। इसके बाद अकबर बंजारा के हाथ और मजबूत हो गए।

 नॉर्थ ईस्ट का बाहुबली है

मेघालय, मिजोरम, असम सहित आसपास के क्षेत्रों में अकबर बंजारा की तूती बोलने लगी। मेघालय के रास्ते उसने बांग्लादेश तक गौ तस्करी शुरू कर दी। धीरे-धीरे वो करोड़ों और फिर अरबों की संपत्ति का मालिक बन गया। उसने कई सफेदपोशों से नजदीकी बढ़ा दी और उसकी धाक जम गई। इसी दौरान उस पर इनाम घोषित कर दिया गया जो बढते-बढ़ते दो लाख तक पहुंच गया लेकिन वो कभी असम पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पाया।

 ऐसे आया गिरफ्त में

नॉर्थ ईस्ट के सबसे बड़े किंग अकबर बंजारा को पकड़ना आसान नहीं था। असम पुलिस ने नॉर्थ इस्ट के कई राज्यों में अकबर की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी लेकिन हर बार वो चकमा देकर भाग निकला। असम पुलिस कई बार मेरठ और फलावदा भी आई लेकिन हर बार मुखबिरी हो गई और बंजारा भाग निकला। फलावदा पुलिस ने अपना जाल बिछाया। मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया तो अकबर बंजारा के गिरोह का एक सदस्य पुलिस से मिल गया और उसी ने बताया कि अकबर बंजारा आज मेरठ आ रहा है और पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने अकबर बंजारा के भाई सलमान और शमीम को भी गिरफ्तार किया है.

 हजारों करोड़ की संपत्ति

उसने मेरठ के फलावदा कस्बे के आसपास ही करोड़ो रूपये की बेशकीमी प्रॉपर्टी खरीदी। जिस भी प्रॉपर्टी पर अकबर बंजारा की नजर गई और उसका दिल आ गया उसे मुंह मांगी कीमत देकर खरीद लिया गया। जिस अकबर बंजारा के पास रहने के लिए एक छोटा सा मकान था आज उसके पास इतनी कोठी और मकान हैं कि उसे शायद खुद भी नही पता है। पुलिस उसे असम ले गई है।

Back to top button