समाचार

बंगाल गैंगरेप: पिता ने कहा बंदूक की नोक पर नाबालिग बेटी का शव छीना, CBI के सामने है बड़ी चुनौती

पश्चिम बंगाल के नादिया में नाबालिग लड़की की गैंगरेप के बाद हुई मौत के मामले में सीबीआई जांच शुरू हो चुकी है। सीबीआई जांच शुरू होते ही कई नई बातें भी सामने आने लगी हैं। गैंगरेप की शिकार लड़की के पिता ने बेहद संगीन आरोप लगाया है कि हथियारों का भय दिखाकर उनकी बेटी का शव अंतिम संस्कार के लिए छीन लिया गया था। आपको बता दें कि सीबीआई (CBI) की एक टीम जांच के लिए बुधवार रात हंसखली पहुंच चुकी है।टीम में दो महिला अधिकारी भी हैं।

CBI ने दस्तावेजों को कब्जे में लिया

सीबीआई की टीम हंसखली थाना गयी और केस डायरी और जांच से संबंधित अन्य दस्तावेजों को अपने कब्जे में ले लिया। एक अधिकारी ने कहा, ‘हमने केस डायरी और जांच से जुड़े अन्य दस्तावेज ले लिए हैं। जल्द लड़की के पिता से मिल सकते हैं और उनका बयान दर्ज कर सकते हैं.’ अस्पताल में भर्ती पिता ने बुधवार को दावा किया था कि आरोपियों ने हथियारों का भय दिखाकर उनकी बेटी का शव छीन लिया और उसका अंतिम संस्कार कर दिया।

आरोपी दे रहे थे धमकी

लड़की के माता-पिता आरोप लगाते रहे है कि उन्हें धमकी दी गई थी कि अगर मामले की शिकायत पुलिस में की गयी तो उसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। अधिकारी ने बताया कि सीबीआई की टीम मुख्य आरोपी के घर भी जा सकती है जहां गैंगरेप की वारदात हुई थी। नौवीं कक्षा की एक छात्रा के साथ चार अप्रैल को एक पार्टी में कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किए जाने के बाद उसकी मौत हो गई थी। पीड़िता के परिवार का दावा है कि इस मामले में मुख्य आरोपी तृणमूल कांग्रेस पंचायत सदस्य का बेटा है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पीड़िता के पिता ने बताया था कि चार अप्रैल को मेरी बेटी, तृणमूल कांग्रेस नेता समर ग्‍वाला के 21 वर्षीय बेटे के निमंत्रण पर ही उसकी बर्थडे पार्टी में गई थी। उन्होंने मेरी बेटी को शाम 7.30 बजे वापस भेजा। मैं घर पर नहीं था लेकिन मेरी पत्नी घर पर थीं। पत्‍नी ने मुझे बताया कि एक महिला और दो पुरुष मेरी बेटी को छोड़ने घर तक आए थे। हम उन्हें नहीं जानते थे।

हमें सिर्फ इतना पता था कि हमारी बेटी समर ग्‍वाला के घर उनके बेटे की बर्थडे पार्टी में गई थी। उस पार्टी से वापस आने के बाद से नाबालिग का खून बह रहा था। अगली सुबह तड़के उसकी हालत बिगड़ जाने पर हम डॉक्टर की तलाश में बाहर निकले, लेकिन जब तक हम वापस आए, वह मर चुकी थी। समर ग्‍वाला के बेटे ने उसके साथ रेप किया था।

CBI के सामने बड़ी चुनौती

हाईकोर्ट ने इस मामले की सुनवाई करते हुए CBI को जांच सौंपते हुए अपने आदेश में कहा है कि इस केस में सबूत मिटा दिए गए हैं और सबूत इकट्ठा करने के लिए जांच एजेंसी को साइंटिफिक इन्वेस्टिगेशन और हाईटेक फॉरेंसिक एग्जामिनेशन का इस्तेमाल करना होगा। कोर्ट ने कहा है कि इस केस की सूक्ष्म से सूक्ष्म सूक्ष्म जानकारियां हासिल करनी चाहिए ताकि इंसाफ हो सके।

अदालत ने इस मामले पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि “पीड़िता खून से लथपथ सड़क पर मिली थी, जिसे किसी और ने घर पहुंचाया था। पुलिस ने सड़क पर पड़े हुए खून के सैंपल नहीं जुटाए। न ही क्राइम सीन रीक्रीएट किया गया। खून के धब्बों की जांच करने के लिए न ही केमिकल टेस्टिंग की गई। पीड़िता के कपड़ों को डीएनए सैम्पल की जांच के लिए भी नहीं भेजा गया। घटना के वक्त आरोपी ने जो कपड़े पहने थे उन्हें भी जब्त नहीं किया गया।”

Back to top button