समाचार

अपने पसंदीदा पीएम के साथ सेल्फी लें या बगल में बैठें, मन मोह लेंगी PM म्यूजियम की ये तस्वीरें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने गुरुवार, 14 अप्रैल को बाबा साहेब डॉक्टर भीमराव आंबेडकर की जयंती के मौके पर नवनिर्मित ‘प्रधानमंत्री संग्रहालय’ (PM Museum) का उद्घाटन किया। यह संग्रहालय दिल्ली के ‘तीन-मूर्ति भवन’  परिसर में बना है। यह वही जगह है, जहां देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू रहा करते थे। देश के शासन की बागडोर संभालते हुए वे करीब 16 सालों तक यहां रहे।

और अब चूंकि केंद्र सरकार ने इस परिसर को ’प्रधानमंत्री संग्रहालय’ (PM Museum) के रूप में तब्दील कर दिया है, तो बतौर पर्यटक हर आम नागरिक यहां घूमने आ सकता है। देश के अब तक के प्रधानमंत्रियों के साथ सेल्फी ले सकता है। देश के लिए उनके योगदान को जान सकता है। उनके बारे में पढ़ और समझ सकता है। आईये इस म्यूजियम को कुछ तस्वीरों से समझने की कोशिश करते है-

यहां कोई भी अपने पसंदीदा प्रधानमंत्री के साथ सेल्फी ले सकता है। इसके लिए एक खास जगह ‘पीएम म्यूजियम’ में निर्धारित की गई है।

अपने पसंदीदा प्रधानमंत्री के बगल की कुर्सी पर बैठकर भी तस्वीर खिंचवाई जा सकती है। यहां दो कुर्सियां हैं एक पर होलोग्राफिक तकनीक से आपके पसंदीदा प्रधानमंत्री अवतरित होंगे। दूसरे आप बैठे दिखाई देंगे। होलोग्राफिक प्रोजेक्शन के जरिए देश के प्रधानमंत्रियों को लालकिले की प्राचीर से भाषण देते हुए देखा और सुना जा सकता है।

संग्रहालय घूमने के लिए 12 साल से अधिक उम्र वालों की 3 टिकट-श्रेणियां हैं। पहली- भारतीय नागरिकों के लिए ऑनलाइन टिकट प्रतिव्यक्ति 100 रुपए का है। भारतीयों के लिए ही दूसरी श्रेणी प्रतिव्यक्ति 110 रुपए के ऑफलाइन टिकट की है। तीसरी श्रेणी- विदेशी नागरिकों के लिए ऑनलाइन टिकट की है, यह प्रतिव्यक्ति 750 रुपए का है।

संग्रहालय में नक्षत्र भवन (Planetarium) भी है। उसे भी घूमना है तो टिकट की दर क्रमश: 150, 160 और 1125 रुपए है। लाइट एंड साउंड शो का इंतजाम है। इसका भी साथ में आनंद लेना है तो टिकट दर हो जाएगी 200, 220 और 1,500 रुपए प्रतिव्यक्ति। वहीं, अगर सिर्फ लाइट एंड साउंड शो का मजा लेना है तो 75, 85 और 550 रुपए में काम चल सकता है।

देश के पूर्व प्रधानमंत्रियों को समर्पित प्रधानमंत्री संग्रहालय 15,600 वर्ग मीटर क्षेत्र में, करीब 217 करोड़ रुपए की लागत से बना है। यहां अभी देश के 14 पूर्व प्रधानमंत्रियों के जीवन और उनके कार्यकाल के दौरान हुए कार्यों की जानकारी दी गई है। इसके माध्यम से आजाद भारत की सभी सरकारों के कामकाज और देश के समृद्ध लोकतांत्रित इतिहास को जाना जा सकता है।

संग्रहालय में 40 से अधिक गैलरी हैं। इनमें पूर्व प्रधानमंत्रियों की तस्वीरें हैं। उनके हस्ताक्षर वाले दस्तावेज हैं। उनके लिखे पत्र हैं। उनसे जुड़े हुए अन्य स्मृति चिह़्न हैं।

जिन कमरों में बैठकर संविधान निर्माण समिति ने देश का संविधान बनाया, उन कमरों में जाकर घूमा जा सकता है। उन तस्वीरों को देखा जा सकता है जो देश के प्रगति पथ पर मील का पत्थर साबित हुई घटनाओं की गवाह हैं।

Back to top button