राशिफल

पाप ग्रह राहु-केतु ने बदली चाल, डेढ़ साल इन राशि के लिए सुकून भरे तो इन राशि के लिए सावधानी भरे

12 अप्रैल, मंगलवार को सुबह 10 बजकर 35 मिनट पर एक ऐसी ज्योतिषीय घटना हुई जिसने आने वाले 18 महीने के लिए 12 राशियों की ग्रह दशा को भी तय कर दिया। ठीक 10 बजकर 35 मिनट पर दो ग्रह राहू और केतु ने अपनी चाल बदल दी। इन दोनों पाप ग्रहों की चाल इंसान के जीवन पर बड़ा प्रभाव डालती है। ज्योतिषियों का कहना है कि राहु-केतु का ये राशि परिवर्तन कुछ राशियों के लिए सकारात्मक परिणाम लाएगा तो कुछ के लिए नाकारात्मक परिणाण हो सकते हैं इसलिए सावधानी बरतनी जरूरी है।

मेष राशि: मेष राशि के लिए राहु पहले भाव में और केतु सप्तम भाव में गोचर करेगा। इस राशि के जातकों को अपने रिश्तों के प्रति ज्यादा सावधान रहने की जरूरत है। आपके जीवन में वित्तीय और स्वास्थ्य संबंधित समस्याएं भी खड़ी हो सकती हैं। हालांकि कुंडली में अगर ग्रहों की स्थिति अच्छी है और महादशा अनुकूल है तो इस राशि के जातकों को इन गोचर की समय अवधि में समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा। कड़ी मेहनत के बाद फल मिलेगा।

हर काम पूरी ईमानदारी से करें। सभी के साथ अच्‍छा व्यवहार रखें, इससे आपको अपने काम बनाने में आसानी होगी. सेहत का ध्‍यान रखें।

वृषभ राशि- कभी धन लाभ होगा तो कभी बढ़े हुए खर्चे बजट बिगाड़ेंगे। आंखों और गले का ध्‍यान रखें, समस्‍या हो सकती है। विरोधी परेशान कर सकते हैं. खासतौर पर जरूरी काम पूरी सावधानी से करें।

मिथुन राशि: धन लाभ होगा। आपके रहन-सहन का स्‍तर बेहतर होगा। घर-गाड़ी का सुख मिलेगा। परिवार में खुशियां आएंगी। मान-सम्‍मान मिलेगा। कुल मिलाकर राहु-केतु का गोचर लाभ ही लाभ देगा।

कर्क राशि: सफलतादायी समय शुरू होगा। हर काम आसानी से बनने लगेंगे। मान-सम्‍मान मिलेगा। आपके काम आपको प्रसिद्धि दिला सकते हैं। पारिवारिक सुख का आनंद लेंगे। लाभ के योग बनेंगे।

सिंह राशि: धार्मिक कामों में रुचि बढ़ेगी। परिवार का सहयोग मिलेगा, जो आपके लिए खासा लाभदायी साबित होगा। परीक्षा-इंटरव्‍यू में सफलता मिलेगी।

कन्या राशि: सेहत संबंधी परेशानियां हो सकती हैं। कारोबारियों को थोड़ा संभलकर रहना चाहिए। यदि सबसे अच्‍छे संबंध बनाकर चलेंगे तो फायदे में रहेंगे।

तुला राशि: तुला राशि के जातकों के लिए राहु सप्तम भाव में और केतु प्रथम भाव में गोचर करेगा। इस गोचर के दौरान आपको सेहत, आर्थिक पक्ष और रिश्तों के मामलों में ज्यादा सावधानी बरतनी पड़ेगी। इस दौरान बृहस्पति और शनि ग्रह अपने गोचर के दौरान शुभ स्थिति में नहीं रहने वाले हैं। शनि चौथे घर में स्थित होगा और बृहस्पति छठे भाव में स्थित होगा। ऐसे में राहु-केतु आपके लिए ज्यादा परेशानी खड़ी कर सकते हैं।

वृश्चिक राशि: नौकरी-व्‍यापार दोनों में फायदा होगा। जॉब में प्रमोशन-इंक्रीमेंट मिलने के प्रबल योग हैं। कारोबारियों को अचानक लाभ होंगे। यदि व्‍यर्थ के खर्चों को टाल दें तो अच्‍छी-खासी बचत कर पाएंगे। संतान की ओर से थोड़ी निराशा हाथ लग सकती है।

धनु राशि: धनु राशि के लिए राहु केतु ग्रह पंचम और एकादश भाव में गोचर करेंगे। पंचम भाव में राहु की स्थिति धनु जातकों के लिए ज्यादा अच्छी नहीं रहने वाली है। इस दौरान आप भविष्य की असुरक्षा और चिंता को लेकर परेशान रह सकते हैं। योजना की कमी और गलत निर्णय लेने की वजह से आपको धन की हानि हो सकती है। इस बीच धन से जुड़ा कोई भी बड़ा निर्णय या निवेश ना करें। संतान से सहयोग नहीं मिलेगा।

मकर राशि: मकर राशि के लिए राहु केतु चौथे और दसवें भाव में क्रमशः गोचर करेंगे। केतु का गोचर तो आपके लिए अनुकूल रहने वाला है, लेकिन राहु का गोचर आपके लिए ज्यादा अच्छा नहीं कहा जा सकता है। आपके परिवार में कुछ समस्याएं खड़ी हो सकती हैं। परिवार के सदस्यों का स्वास्थ्य भी आपके लिए परेशानी की वजह बन सकता है। आय के स्रोतों पर इसका असर दिखाई दे सकता है। नौकरी या व्यवसाय के मामले में आपको बड़े झटके लग सकते हैं।

कुम्भ राशि: यह समय बेशुमार सफलता और लाभ दिलाएगा। घर-परिवार से मिला सहयोग आपके जीवन को और आसान बनाएगा। नौकरी में तरक्‍की मिलेगी। आपको कोई बड़ी जिम्‍मेदारी मिल सकती है।

मीन राशि: मीन राशि के लिए राहु-केतु क्रमशः दूसरे और आठवें भाव में गोचर करने जा रहे हैं। इन ग्रहों का गोचर मीन राशि के जातकों के लिए प्रतिकूल परिणाम लेकर आएगा। यदि व्यक्तियों की कुंडली अच्छी नहीं है तो इन्हें आर्थिक समस्या, पारिवारिक समस्या, और स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। कर्ज, उधार या खर्चे आपकी मुश्किल बढ़ा सकते हैं। सलाह दी जाती है कि इन क्षेत्रों पर ज्यादा ध्यान दें और सावधान रहें।

(Disclaimer: लेख में दी गई जानकारियां सामान्य ज्योतिषीय मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित हैं। NEWSTREND इसकी पुष्टि या दावा नहीं करता है।)

Back to top button