समाचार

रामनवमी जुलूस पर पथराव करने वाले आरोपियों के घर चला बुलडोजर, दिग्विजय सिंह को लग गया बुरा

यूपी में बाबा के बुल्डोजर के तर्ज पर एमपी में मामा का बुल्डोजर चल रहा है। मध्य प्रदेश के खरगोन में रामनवमी के दिन हुई हिंसा पर सरकार ने काफी सख्त रुख अपनाया है।जिला प्रशासन ने खरगोन में रामनवमी जुलूस पर पथराव करने वाले आरोपियों के घरों को बुल्डोजर चलाकर ढाह दिया है।

प्रशासन ने चलाया बुल्डोजर

सोमवार को शहर के संवेदनशील इलाका मानें जाने वाले छोटी मोहन टाकीज क्षेत्र में भारी पुलिस फोर्स की मौजूदगी में सरकार के अधिकारी वहां बुलडोजर लेकर पहुंचे और हिंसा करने वाले आरोपियों के मकानों को ढाह दिया।

दिग्विजय सिंह को क्यों लगा बुरा?

इस कार्रवाई का कांग्रेस ने विरोध किया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया, ‘मामू का बुलडोज़र बलात्कार करने वालों पर और बलात्कारियो को सहयोग देने वालों पर नहीं चलता। केवल शक्ल देख कर बुलडोज़र चलाए जा रहे हैं।’

क्या है पूरा मामला?

10 अप्रैल को राम नवमी के मौके पर खरगोन में शोभायात्रा निकाली गई थी। इस यात्रा के दौरान कुछ लोगों ने पथराव किया था, जिसके बाद पूरे क्षेत्र में हिंसा शुरू हो गई थी। हिंसा के दौरान कुछ लोगों ने पेट्रोल बंब भी फेंके थे। इस पूरे घटनाक्रम में आम जनता समेत 20 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे।

सीएम शिवराज ने दिए थे निर्देश

इस घटना को लेकर राज्य के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इस हिंसा में शामिल आरोपियों की पहचान कर ली गई है और उन्हें बख्सा नहीं जाएगा। सीएम ने कहा कि रामनवमी के अवसर पर खरगोन में हुई घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। मध्यप्रदेश की धरती पर दंगाइयों के लिए कोई स्थान नहीं है। यह दंगाई चिन्हित कर लिए गए हैं, इनको छोड़ा नहीं जाएगा। उनके खिलाफ कठोरतम कार्यवाही की जाएगी

मिसाल बनेगी ये कार्रवाई

इस मामले पर राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पहले ही कहा था कि सरकार द्वारा ऐसी कार्रवाई की जाएगी, जो पूरे देश के मिसाल बन जाएगी। नरोत्तम मिश्रा ने कहा मध्य प्रदेश शांति का टापू है और इसे किसी सूरत में बदलने नहीं दिया जाएगा।’

Back to top button