समाचार

थाने में पत्रकार और उनके साथियों की अंडरवीयर में परेड करवाई, मचा हड़कंप, CM ने तलब की रिपोर्ट

मध्य प्रदेश में सीधी जिले की पुलिस पर गंभीर आरोप लगे हैं। पुलिस पर आरोप है कि वो एक पत्रकार औऱ उनके साथियों को थाने में लेकर आई और उनके साथ अमानवीय व्यवहार किया। आरोप है कि पत्रकार और उनके साथियों के पूरे कपड़े उतरवा दिए गए, सिर्फ अंडरवीयर छोड़ दिया गया। इस अर्धनग्न अवस्था में थाने में खड़ा कर उनकी परेड करा दी गई। यही नहीं इन पुलिसवालों ने इन लोगों की अर्धनग्न फोटो भी ली फिर उसे वायरल करने का भी उनपर आरोप लगा है।

फोटो वायरल होने के बाद मचा हड़कंप

फोटो वायरल होने के बाद सीधी से लेकर भोपाल तक शासन-प्रशासन में हड़कंप मच गया। थाने में पत्रकार और उसके अन्य साथियों के कपड़े उतरवाने के आरोपी दो पुलिस अफसरों को तुरंत सस्पेंड कर दिया गया है। इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रिपोर्ट तलब की है। थाने में अंडरवियर में खड़े पत्रकार और उसके अन्य साथियों की तस्वीर सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद प्रदेश सरकार ने इस मामले पर खुद संज्ञान लेकर कार्रवाई की है।

क्या है मामला?

बताया जा रहा है कि धरना प्रदर्शन कर रहे कुछ लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था, जिसके बाद उनके कपड़े उतरवाकर थाने में जुलूस निकाला गया। स्थानीय पुलिस द्वारा गिरफ्तारी के बाद पत्रकार और अन्य के साथ पुलिस ने दुर्व्यवहार किया। अंडरवियर में फोटो वायरल हो गई। इस मामले को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संज्ञान में लिया है।

पुलिस से रिपोर्ट तलब

इस घटनाक्रम को लेकर भोपाल पुलिस मुख्यालय से जिम्मेदार लोगों से स्पष्टीकरण मांगा गया है। शासन की ओर से दोषी पुलिसकर्मियों के इस व्यवहार पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। पत्रकारों के साथ हुए दुर्व्यवहार के लिए जिम्मेदार थाना प्रभारी और एक एसआई को निलंबित कर लाइन अटैच करने के आदेश जारी किए गए। इसके बाद सीधी जिले के एसपी मुकेश श्रीवास्तव ने थाना प्रभारी कोतवाली मनोज सोनी और अमिलिया थाना प्रभारी अभिषेक सिंह को लाइन हाजिर कर दिया है।

विभागीय जांच शुरू

वहीं इस मामले में रीवा रेंज के आईजी ने ट्वीट करते हुए कहा कि सीधी जिले से संबंधित एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई है। इसको गंभीरता से लेते हुए थाना प्रभारी कोतवाली सीधी और एक उप निरीक्षक को तत्काल हटाकर पुलिस लाइन संबद्ध किया गया है। प्रकरण की जांच अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक से कराने के निर्देश जारी किए गए हैं।

Back to top button