समाचार

अमेरिका की दादगिरी: भारत का रूस से सस्ता तेल खरीदना US को नहीं भा रहा, दी ये चेतावनी

रूस-यूक्रेन युद्ध ने कई देशों के आपसी संबंधों पर असर डाला है। अमेरिका और पश्चिमी देश रूस पर एक के बाद एक प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं, साथ ही दूसरों देशों से भी ऐसा करने की अपील कर रहे हैं। दूसरी तरफ प्रतिबंधों की मार झेल रहे रूस ने सस्ती दर पर तेल बेचने का फैसला किया है, उसने भारत को भी सस्ती कीमत पर पेट्रोल खरीदने का ऑफर दिया। बड़ी मात्रा में तेल का आयात करने वाले भारत ने रूस के ऑफर को स्वीकार कर लिया। ये बात अमेरिका को पसंद नहीं आ रही है। उसने भारत के एक चेतावनी दे डाली है।

अमेरिका ने भारत को चेताया

बाइडेन सरकार के एक सीनियर अधिकारी ने कहा है कि भारत द्वारा रूसी तेल आयात में हो रही बढ़ोतरी नई दिल्ली को एक ‘बड़े जोखिम’ में डाल सकती है क्योंकि अमेरिका यूक्रेन पर आक्रमण के लिए मास्को के खिलाफ प्रतिबंधों को लागू करने के लिए तैयार है।

अमेरिकी अधिकारी की यह टिप्पणी तब आई है जब रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव की नई दिल्ली की दो दिवसीय यात्रा और अर्थशास्त्र के लिए अमेरिकी उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार दलीप सिंह की भारत यात्रा चल रही है।

भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल आयातक है। 24 फरवरी को रूस द्वारा यूक्रेन पर हमला किए जाने के बाद से स्पॉट टेंडर के जरिए भारत रूसी तेल की खरीद कर रहा है और छूट का लाभ उठा रहा है। भारत ने फरवरी 24 के बाद से कम से कम 13 मिलियन बैरल रूसी तेल खरीदा है। जबकि भारत ने साल 2021 में करीब 16 मिलियन बैरल की खरीद की थी।

अमेरिका ने दी ये चेतावनी

रॉयटर्स ने अमेरिकी अधिकारियों के हवाले से बताया है कि अमेरिका को भारत द्वारा रूसी तेल खरीदने में कोई आपत्ति नहीं है बशर्ते वह पिछले साल की तुलना में बहुत अधिक तेल न खरीदे। रॉयटर्स ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि अगर भारत रूस के साथ व्यापार को रुपये में निपटाता है या डॉलर में भुगतान करना जारी रखता है, तो वाशिंगटन को कोई समस्या नहीं है।

अमेरिकी अधिकारी ने कहा है कि भारत जो कुछ कर रहा है वह प्रतिबंधों के अनुपालन में होना चाहिए। यदि नहीं तो वे खुद को एक बड़े जोखिम में डाल रहे हैं। उन्होंने कहा है कि हम अगले दिनों और हफ्तों में कई और प्रतिबंधों को लागू करने के लिए कदम उठाने जा रहे हैं। हम दुनिया में हर किसी से यह सुनिश्चित करने के लिए कह रहे हैं कि आप प्रतिबंधों का अनुपालन करें। यह मेसेज सभी के लिए है।

Back to top button