समाचार

भारत में ससुराल होने के कारण घिरे ब्रिटिश वित्त मंत्री, पत्नी पर उठे सवालों का देना पड़ा जवाब

रूस-यूक्रेन युद्ध ने दुनिया आर्थिक रूप से दो खेमों में बांट दिया है। एक वो देश हैं जो रूस पर कड़े प्रतिबंध लगा रहे हैं तो दूसरे वो देश हैं जो रूस के साथ व्यापारिक संबंध बनाए हुए हैं। ऐसे में उन कंपनियों की पश्चिमी देश खिंचाई करने से नहीं चूक रहे जो रूस मे अपना कारोबार जारी रखे हुए हैं। इसीलिए भारतीय मूल के ब्रिटिश वित्त मंत्री ऋषि सुनक इंफोसिस में अपनी पत्नी की हिस्सेदारी को लेकर सवालों के घेरे में हैं।

दरअसल, यूक्रेन पर हमले को लेकर रूस पर ब्रिटेन, अमेरिका सहित सभी पश्चिमी देशों ने कड़े प्रतिबंध लगाए हैं। ऐसे में भारत की कंपनी इंफोसिस रूस में अपना काम जारी रखे हुए है।

इंफोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति ऋषि सुनक के ससुर हैं और इस कंपनी में ऋषि की पत्नी अक्षता मूर्ति की हिस्सेदारी है। इसी बात को लेकर ऋषि सुनक पर सवाल दागे गए कि एक तरफ तो वो रूस पर कड़े प्रतिबंधों की बात कर रहे हैं और दूसरी तरफ उनके घर में ही उनकी बातों को नहीं माना जा रहा।

रिपोर्टर ने पूछा सवाल

स्काई न्यूज की एक रिपोर्टर ने ऋषि सुनक से सवाल किया, ‘ऐसी खबरें हैं कि आपके परिवार का रूस के साथ संबंध है। आपकी पत्नी की भारतीय कंसल्टेंसी फर्म इंफोसिस में हिस्सेदारी है।

इंफोसिस का व्यापार रूस में चल रहा है, उनका वहां एक ऑफिस भी है, एक डिलिवरी ऑफिस भी है। कंपनी का मॉस्को में अल्फा बैंक से कनेक्शन भी है।’ पत्रकार ने. आगे कहा, ‘क्या आप दूसरों को जो सलाह दे रहे हैं, उसका पालन आपके घर में ही नहीं हो रहा?’

सुनक ने दिया ये जवाब

जवाब में सुनक ने बेहद ही स्पष्ट तरीके से कहा कि वो रूस पर प्रतिबंधों के बारे में एक चुने हुए राजनेता के रूप में अपना पक्ष रख रहे हैं। उनकी पत्नी कोई चुनी हुई नेता नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि इंफोसिस में उनकी पत्नी के शेयर हैं और वो ब्रिटेन की निर्वाचित सांसद नहीं है। उन्होंने कहा, ‘इंफोसिस के व्यापार को लेकर मेरी कोई जवाबदेही नहीं है। मैं एक चुना हुआ नेता हूं और मैं जिन कामों के लिए जिम्मेदार हूं, उन पर चर्चा के लिए यहां मौजूद हूं।’

उनके इस जवाब पर पत्रकार ने फिर  सवाल किया कि क्या उन्हें नहीं लगता है कि उनका परिवार रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की सरकार को फायदा पहुंचा रहा है?

सुनक ने जवाब दिया, ‘मुझे नहीं लगता कि ऐसा कुछ है। कंपनियां किस तरह काम करती हैं, ये उन पर निर्भर हैं। हमने रूस पर महत्वपूर्ण प्रतिबंध लगाए हैं। हम जिन कंपनियों के लिए जिम्मेदार हैं। वे सभी रूस पर लगे प्रतिबंधों का पालन कर रही हैं। पुतिन की आक्रामकता को एक कड़ा संदेश देना चाहिए।’

रूस में व्यापार पर इंफोसिस की सफाई

इंफोसिस के एक बयान में कहा गया है कि वो रूस और यूक्रेन के बीच शांति बहाली का समर्थन करता है। इंफोसिस ने जानकारी दी कि रूस में उनकी एक बहुत छोटी टीम काम कर रही। है जो स्थानीय स्तर पर कुछ वैश्विक ग्राहकों को सेवा प्रदान करती है।

इंफोसिस ने सफाई दी कि स्थानीय रूसी उद्योगों के साथ उनका कोई सक्रिय व्यापारिक संबंध नहीं है। बयान में कहा गया है, ‘इस मुश्किल वक्त में इंफोसिस की बड़ी प्राथमिकता यूक्रेन को समर्थन देना जारी रखना है। कंपनी यूक्रेन में युद्ध प्रभावित लोगों को 10 लाख अमेरिकी डॉलर मदद दे रही है।

Back to top button