समाचार

रूस ने पहली बार इस्तेमाल किया ब्रम्ह्मास्त्र किंझल’, आवाज़ से 3 गुना ज़्यादा तेज, जानें इसकी खूबियां

रूस-यूक्रेन जंग में नई पीढ़ी के हथियारों की प्रदर्शनी भी खूब हो रही है। यूक्रेन ने जब आधुनिक ड्रोन और किलर मिसाइलों से रूस की फौज को निशाना बनाना शुरू किया तो फिर रूस ने भी अपना ब्रह्मास्त्र चल दिया। ये ऐसा हथियार है जो सिफ रूस के पास है और अमेरिका भी अभी इसे पूरी तरह विकसित नहीं कर पाया है। रूस का ये ब्रह्मास्त्र है हाइपरसोनिक मिसाइल। हाइपरसोनिक मिसाइल ध्वनि की गति से भी कई गुना तेजी से हमला करती है।

हाइपरसोनिक मिसाइल किंझल से हमला

रूस ने ऐलान किया है कि उसने यूक्रेन में हाइपरसोनिक मिसाइल किंझल का इस्‍तेमाल करके पश्चिमी देशों की ओर से दिए गए हथियारों के गोदाम को तबाह कर दिया है।

रूस ने जिस किंझल मिसाइल का इस्‍तेमाल यूक्रेन में किया है, उसका तोड़ अमेरिका समेत दुनिया के किसी भी देश के पास नहीं है। आपको बता दें कि अमेरिका ने भी रूस के इस हमले की पुष्टि की है और शिकायती अंदाज में दुनिया को बताया है कि रूस ने हाइपरसोनिक मिसाइल हमला किया है।

पुतिन ने बताया आदर्श हथियार

यह वही मिसाइल है जिसे रूसी राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन ने कुछ समय पहले एक ‘आदर्श हथियार’ करार दिया था। इस मिसाइल से यूक्रेन के डेलिअटयन गांव में हमला किया गया जो शहर के बाहर है और पहाड़ों से घिरा हुआ है। माना जा रहा है कि इस मिसाइल को MiG-31 सुपरसोनिक फाइटर जेट से दागा गया है जिसे रूस ने कालिनग्राद के चाकलोवस्‍क नेवल बेस में तैनात कर रखा है। कालिग्राद पोलैंड और लिथुआनिया की सीमा के पास स्थित रूसी शहर है जहां उसका एक विशाल सैन्‍य अड्डा भी मौजूद है।

ध्वनी की चाल से 10 गुना ज्‍यादा स्‍पीड

रूस की इस किंझल हाइपरसोनिक को साल 2018 में पुतिन ने देश को समर्पित किया था। यह मिसाइल आवाज से 10 गुना ज्‍यादा स्‍पीड से उड़ान भरने में सक्षम हैं और परमाणु बम गिराने की ताकत रखती हैं। इतनी ज्‍यादा स्‍पीड की वजह से यह दुश्‍मन को प्रतिक्रिया देने का मौका नहीं देती है और उसे तबाह करके रख देती है। इस रूसी हाइपरसोनिक मिसाइल की ताकत का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इसका तोड़ अभी अमेरिका समेत किसी भी नाटो देश के पास नहीं है।

अमेरिका हाइपरसोनिक मिसाइलों को तैनात करने के लिए युद्ध स्‍तर पर कोशिश कर रहा है। किंझल हाइपरसोनिक मिसाइल करीब 2000 किमी तक मार कर सकती है। किंझल मिसाइल परंपरागत विस्‍फोटक के अलावा 500 किलोटन के परमाणु बम भी ले जा सकती है। ये परमाणु बम हिरोशिमा पर गिराए गए परमाणु बम से 33 गुना ज्‍यादा शक्तिशाली हो सकते हैं। किंझल हाइपरसोनिक मिसाइल 3 किमी प्रति सेकंड की रफ्तार से हमला करने में सक्षम है। इसकी वजह से अत्‍याधुनिक एयर‍ डिफेंस सिस्‍टम भी इसके सामने फेल साबित होता है।

सिर्फ 7-10 मिनट के अंदर ब्रिटेन-तुर्की आएंगे जद में

बताया जाता है कि इस हाइपसोनिक मिसाइल में सेंसर और रेडॉर सीकर लगे हैं जो उसे जमीन से लेकर समुद्र तक में सटीक हमला करने की बेजोड़ ताकत देते हैं। आमतौर रूस कालिनग्रेड बेस पर मिग-31 के विमानों को तैनात नहीं करता है लेकिन यूक्रेन की जंग को देखते हुए इन विमानों को यहां भेजा गया है।

सैन्‍य विशेषज्ञ रॉब ली के अनुसार किंझल मिसाइल को अगर कालिनग्राड से दागा जाता है तो यह पश्चिमी यूरोपीय देशों के ज्‍यादातर राजधानियों और तुर्की की राजधानी अंकारा को तबाह करने की ताकत रखती है। यही नहीं किंझल के नाटो देशों पर हमला करने में मात्र 7 से 10 मिनट लगेंगे। ऐसे में उन्‍हें इसे बर्बाद करने के लिए भी वक्‍त नहीं मिलेगा।

Back to top button