समाचार

फिल्म ‘गंगाजल’ का सीन जब असल जिंदगी में उतरा: एसपी साहब के सामने दारोगा की बंध गई घिग्घी

कहा जाता है कि फिल्में समाज का आइना होती हैं। ये बात अक्सर असल जिंदगी में साबित भी होती रहती है। अजय देवगन की सुपरहिट फिल्म गंगाजल का एक काफी लोकप्रिय सीन बिहार में हूबहू असल जिंदगी में भी दिखा। मशहूर फिल्म निर्माता प्रकाश झा की फिल्म गंगाजल का दारोगा मंगनी राम वाला सीन लोगों के जेहन में आज भी बैठा हुआ है। अजय देवगन की स्टारकास्ट वाली इस फिल्म की चर्चा भी दारोगा वाले सीन के कारण काफी होती रही है। लेकिन रील लाइफ में चर्चा में रहे इस सीन को रीयल लाइफ में देखकर एक एसपी साहब चौंक गए।

जब गंगाजल का सीन हुआ रिपीट   

मामला बिहार के शेखपुरा जिले का है। फिल्म के सीन का सच यहां उस वक्त देखने को मिला जब पुलिस के एक सहायक अवर निरीक्षक द्वारा जिले के एसपी की गाड़ी को रिश्वत और नजराने के लिए रोक दिया गया।

बताया जा रहा है कि रुपये के लालच में सहायक अवर निरीक्षक ने अपने बॉस पर भी हाथ डालने से गुरेज नहीं किया। अवैध वसूली में लगे इस कनीय पुलिस अफसर ने वसूली के लिए एसपी साहब को ही रोक लिया. फिर क्या था वसूली करने वाले साहब न केवल मौके पर सस्पेंड कर दिए गए बल्कि इनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई करने का भी आदेश दिया गया है।

शेखपुरा एसपी कार्तिकेय शर्मा ने खुद इस मामले की जानकारी देते हुए बताया कि कसार थाने में तैनात सहायक अवर निरीक्षक रणवीर प्रसाद को वाहनों से अवैध वसूली के मामले में तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया है। एसपी ने दावा किया कि चांदी पहाड़ से पत्थर और दस्त लेकर निकलने वाले वाहनों से पुलिस का ये दारोगा लगातार अवैध वसूली करता था।

दारोगा ने एसपी की बाइक रोकी

रणवीर प्रसाद के बारे में लोगों ने एसपी से शिकायत की थी कि रास्ते में बाइक से आने जाने वाले लोगों को भी पुलिस का रौब दिखाकर सौ-पचास वसूल लेता था। इस घूसखोर पुलिस अफसर को पकड़ने के लिए एसपी कार्तिकेय शर्मा खुद बिना वर्दी के आम इंसान में बाइक चलाकर मौके पर पहुंच गए।

मिली जानकारी के अनुसार रुपये वसूलने में लगे दारोगा ने वसूली के लिए एसपी साहब को हाथ देकर रोक दिया। मगर जब नजदीक आकर जाना तब उसके होश उड़ गए। पर तब तक उसकी सारी करतूतों को एसपी अपनी आंखों से देख चुके थे। सहायक निरीक्षक को सस्पेंड कर दिया गया।

आपको बता दें कि वाहनों से अवैध वसूली के कारण ही आठ पुलिसकर्मियों को एक पखवाड़े पहले भी एसपी ने सस्पेंड कर दिया था। ये आठों पुलिसकर्मी शेखपुरा और चेहरा थाना क्षेत्र से जुड़े हुए थे। आजकल एसपी देर रात सड़कों पर निकल कर वसूली करने वाले पुलिसकर्मियों को रंगे हाथ पकड़ने में लगे हैं।

Back to top button