समाचार

पत्नी से छुटकारा पाने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचा पति, कहा-बचा लो जज साहब मेरी पत्नी मर्द है

मध्य प्रदेश के ग्वालियर में अजीबोगरीब मामला सामने आया है। यहां एक पति अपनी पत्नी से छुटकारा पाने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। उसने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर कहा है कि उसकी पत्नी पुरुष है। क्या है पूरा मामला आपको आगे बताते हैं।

पत्नी का प्राइवेट पार्ट पुरुष का है

पीड़ित पति का कहना है कि देखने से उसकी पत्नी पूरी तरह महिला लगती है शरीर के बाकी अंग महिला जैसे हैं लेकिन उसका प्राइवेट पार्ट पुरुष का है। पति ने आरोप लगाया है कि ससुर ने उसे धोखा दिया और अपनी बेटी से शादी करा दी। उसने कहा- मैं उसके साथ पति-पत्नी की तरह कैसे जी सकता हूं, मैं उसके साथ नहीं रह सकता।

सुप्रीम कोर्ट में डाली याचिका

जानकारी के मुताबिक, पति ने सुप्रीम कोर्ट से मांग की है कि ससुर और पत्नी पर कानूनी केस चलना चाहिए। बताया जाता है कि सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर विचार करने की स्वीकृति दे दी है। पति के वकील ने उसके ससुर, पत्नी और मध्य प्रदेश पुलिस को नोटिस जारी कर दिया है। सभी पक्षकारों से डेढ़ महीने में जवाब मांगा है।

हाईकोर्ट के फैसेल से पति संतुष्ट नहीं

जानकारी के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट जाने से पहले पति ने मामले को हाईकोर्ट में उठाया था। उस वक्त हाई कोर्ट ने जून 2021 में फैसला भी दिया था। इस फैसले से जब पति संतुष्ट नहीं हुआ तो उसने सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे खटखटाया है। इस मामले में एक वकील का कहना था कि मेडिकल से इस बात के पूरे साक्ष्य हैं कि पत्नी को महिला नहीं कहा जा सकता।

man in court

पति ने कोर्ट में पेश की मेडिकल रिपोर्ट

शख्स ने कोर्ट में जो मेडिकल रिपोर्ट पेश की, उससे पता चला कि उसकी पत्नी का प्राइवेट पार्ट पुरुष का है। उसके वकील का कहना है कि यह अपराध आईपीसी की धारा 420 (धोखाधड़ी) के तहत अपराध है। युवक को पुरुष से शादी कराकर ठगा गया है। महिला अपने प्राइवेट पार्ट के बारे में जानती थी, फिर भी उसने शादी की।

सुप्रीम कोर्ट शुरू में इस मामले को सुनने के लिए तैयार नहीं था, लेकिन मेडिकल रिपोर्ट पर ध्यान देने के बाद पत्नी को नोटिस जारी किया है. मेडिकल रिपोर्ट से पता चला है कि पत्नी आनुवंशिक रूप से महिला है, और उसे अंडाशय भी हैं, लेकिन उसके पास “बाहरी पुरुष जननांग” भी है।

सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका के के मुताबिक, दोनों की शादी साल 2016 में हुई थी। लेकिन शादी के बाद पति ने पाया कि उसकी पत्नी के जननांग “पुरुष” जैसे थे।इसके बाद शख्स अपनी पत्नी को मेडिकल चेकअप के लिए ले गया, जिसमें पाया गया कि उसे जन्मजात एक समस्या है जिसे हाइपरप्लासिया कहा जाता है. इस वजह से उसका प्राइवेट पार्ट एक पुरुष की तरह है। उसे इस समस्या को खत्म करने के लिए सर्जरी की भी सलाह दी गई थी।

निचली अदालत में गवाहके तौर पर डॉक्टर ने यह भी कहा कि उसके पास “महिला अंग” हैं, लेकिन जननांग पुरुषों जैसा होने की वजह से यह संभावना है कि वह कभी मां नहीं बन पाएगी। फिर पति ने अपनी पत्नी को उसके माता-पिता के पास वापस भेज दिया, और दावा किया कि उसे “धोखा” दिया गया है। इस मामले की अब अप्रैल में सुनवाई होगी

Back to top button