समाचार

‘सेना अधिकारियों की काट देंगे बिजली-पानी’, तेलंगाना के मंत्री केटीआर ने क्यों दी ऐसी धमकी?

पूरा देश सेना उसके अधिकारियों और जवानों को सिर आंखों पर लिए रहता है, उनकी हर जगह जय-जयकार होती है। लेकिन तेलंगाना की केसीआर सरकार के मंत्री केटीआर ने सेना के अधिकारियों की बिजली-पानी काटने की धमकी दे दी है। क्या है पूरा मामला आपको आगे बताते हैं।

केटीआर ने जारी की चेतावनी

तेलंगाना नगरपालिका प्रशासन और शहरी विकास मंत्री के टी रामाराव ने शनिवार को सेना के अधिकारियों के लिए चेतावनी जारी की है। उन्होंने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो राज्य सरकार छावनी में सैन्य अधिकारियों को बिजली और पानी की आपूर्ति काट देगी। यह बात उन्होंने कैंटोनमेंट एरिया में आने वाली सड़कों के बंद किए जाने के विरोध में कहीं। उन्होंने कहा कि सड़कें बंद होने से स्थानीय लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही है।

केटीआर ने चेतावनी विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान दी। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों को एक शहर में रहने के दौरान आपसी सहयोग की आवश्यकता है। हालांकि राज्य सरकार ने केंद्र के पास शिकायत दर्ज कराई थी कि सैन्य अधिकारियों की ओर से सड़कों को बंद करने और नाला विकास कार्यों को पूरा करने में बाधा जैसे मुद्दों से लोगों को भारी असुविधा हो रही है। हालांकि शिकायत के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई।

देखते हैं फैसला वापस लेते हैं या नहीं

केटीआर ने राज्य सरकार के अधिकारियों को एलएमए और छावनी अधिकारियों के साथ तुरंत बैठक बुलाने का निर्देश दिए। उन्होंने कहा, तेलंगाना कोई अलग देश नहीं है। हमारे अधिकारी उनके साथ बैठक करेंगे। अगर वे नहीं समझते हैं, तो हमें कड़ी कार्रवाई करनी होगी। अगर जरूरत पड़ी, तो हम उन्हें बिजली और पानी की आपूर्ति काट देंगे और फिर देखेते हैं कि वह अपना फैसला वापस लेते हैं या नहीं।

मंत्री ने कहा कि सैन्य अधिकारियों ने बलकापुर नाले पर एक चेक डैम का निर्माण किया है, जिसके परिणामस्वरूप नदीम कॉलोनी में पानी भर गया है और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण राज्य सरकार को गोलकुंडा किले के पास नाला काम करने की अनुमति नहीं दे रहा है। राज्य सरकार लोगों के हितों की रक्षा के लिए किसी भी हद तक जाएगी।

केटीआर ने कहा कि राज्य सरकार ने 985 करोड़ रुपये की लागत से सामरिक नाला विकास कार्यक्रम शुरू किया है। पहले चरण में केंद्र सरकार का योगदान शून्य है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय पर्यटन मंत्री जी किशन रेड्डी शहर से सांसद हैं, लेकिन नाला विकास कार्यक्रम के लिए वित्तीय सहायता नहीं ला पाए हैं।

इससे पहले, टीआरएस विधायकों ने कहा कि भाजपा नेताओं ने बाढ़ प्रभावित लोगों को घर के बदले घर, कार के बदले कार और अन्य मुफ्त सुविधाएं देने का वादा किया था, लेकिन उसे पूरा नहीं किया।

तेलंगाना के मंत्री केटीआर ने भले ही सेना पर कई आरोप लगा दिए हों लेकिन कभी-कभी सुरक्षा कारणों से कंटोनमेंट एरिया या छावनी इलाके में आम लोगों की आवाजाही रोकी जाती है, ताकि किसी प्रकार कोई जासूसी या अन्य ऐसी गतिविध ना हो जिससे देश के दुश्मनों तक कोई ऐसी जानकारी पहुंच जाय जिससे देश की सुरक्षा खतरे में पड़ जाय।

Back to top button