विशेष

पुलिस को चैलेंज कर युवक ने 45 साल से बंद देवनारायण मंदिर को खोला, कहा भगवान ताले में नहीं रह सकते

राजस्थान के भीलवाड़ा में एक युवक ने लगभग 45 साल से बंद देवनारायण मंदिर के गेट के पर लागे ताले को तोड़ दिया और उसका गेट खोल दिया। गुर्जर समाज के एक युवक ने मंदिर का गेट खोलते हुए इसका वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट भी किया है। इसके बाद वीडियो तेजी से वायरल हो गया। वीडियो सामने आने के बाद पुलिस हरकत में आई और मौके पर पहुंची। लेकिन तब तक युवक वहां से निकल गया।

भगवान ताले में बंद नहीं रह सकते

युवक ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर तालों के साथ एक फोटो शेयर करते हुए लिखा, ‘भगवान श्री देवनारायण भगवान तालों में बंद नहीं रह सकते ,ताले टूट चुके है ,आप सबको बधाई’।

धार्मिक स्थल को लेकर विवाद

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, इस धार्मिक स्थल पर विवाद चल रहा है। मामला सन 1977 से कोर्ट में विचाराधीन है। उस दौरान कोर्ट ने इस स्थल के पट को बंद कर ताला लगा दिया था और इसकी चाबी मांडल थाने में जमा करवाई गई थी। कहते हैं कि इस जीमन पर एक छोटा सा ढांचा बना हुआ है। दो पक्ष उसे अपना-अपना धार्मिक स्थल होने का दावा कर रहे हैं।

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

मिली जानकारी के मुताबिक, गुर्जर समाज के गोपाल बस्सी नाम के एक युवक ने वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था। उसने दावा किया है कि उसने धार्मिक स्थल का ताला तोड़ दिया है। उसने एक फोटो शेयर कर अपने सोशल मीडिया पेज पर लिखा, ‘ श्री देवनारायण भगवान तालों में बंद नहीं रह सकते ,ताले टूट चुके है ,आप सबको बधाई’। युवक ने वीडियो में कहा कि देवनारायण भगवान का 45 साल से बंद मंदिर खोल दिया हैं। हम सब के लिए यह गर्व की बात है। पूरे राजस्थान में लोग खुशियां मनाएं। मंदिर खोलकर पहला झंडा चढ़ा रहा हूं। आप सब को बहुत-बहुत बधाई।

वीडियो सामने आते ही पुलिस फौरन हरकत में आई। टीम को मौके पर तैनात कर दिया गया। बताया जा रहा है कि आरोपी युवक की तलाश की जा रही है।

 पुलिस को किया था चैलेंज

बताया जा रहा है कि युवक ने कुछ दिन पहले खुले मंच से चैलेंज किया था। उसने कहा था,’सरकार कान खोलकर सुन लें, कि मैं गोपाल बस्सी हूं। मांडल में अकेला आऊंगा और देवनारायण भगवान के मंदिर को खोलूंगा। हिम्मत है तो रोककर दिखा देना। मुझे गिरफ्तार करके दिखा देना।

Back to top button