समाचार

टोटी से नहीं छूट रहा पीछा, जब प्रेस कॉन्फ्रेंस में टोटी लेकर पहुंच गए थे अखिलेश, देखिए वीडियो

यूपी के पूर्व मुख्य मंत्री अखिलेश यादव को कुर्सी छोड़ने के बाद मुख्यमंत्री आवास से निकले 5 वर्ष हो चुके हैं, लेकिन टोटी विवाद आज भी उनका पीछा नहीं छोड़ रहा है। सोशल मीडिया पर आज भी टोटी के बहाने उनपर निशाना साधने से लोग नहीं चूकते।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जब 2017 में अपना सरकारी बंगला खाली किया था, तब उन पर आवास में तोड़फोड़ करने का आरोप लगा था। आरोप लगा था कि घर में लगे टोटी तक उखाड़ लिए गए थे।

जिसके बाद अखिलेश यादव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। जिसमें वह अपने दोनों हाथों में टोटी लेकर पहुंचे हुए थे। प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने इस मामले पर सफाई देते हुए कहा था कि, ‘ मैं सरकार को टोंटी देने आया हूं। सरकार गिनती बताएं, कितनी टोटी निकाली है सारी की सारी हम वापस कर देंगे’।

यह घटना 2017 विधानसभा चुनाव के बाद की है, लेकिन आज भी तमाम लोग उनको इस मुद्दे पर ‘टोटी चोर’ कहते हुए नजर आते हैं। प्रेस कॉन्फ्रेंस का वीडियो अक्सर ही सोशल मीडिया पर वायरल होता रहता है। इसी पर पिछले दिनों भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता गौरव भाटिया ने टिप्पणी करते हुए कहा था कि “टोपीधारी अपना बदलकर वेश आ रहे हैं, रखना अपना गुसलखाना बंद क्योंकि अखिलेश आ रहे हैं”।

अखिलेश यादव जब भी कोई ट्वीट करते हैं तो अक्सर ट्विटर यूजर टोटी चोर कहते हुए उनपर निशाना साधते रहते हैं। कुछ दिन पहले उन्होंने भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए ट्वीट किया था कि भाजपा सरकार ने पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों को नामांकन करने से रोका है, वो हारी हुई भाजपा का चुनाव जीतने का नया प्रशासनिक हथकंडा है।

akhilesh-yadav

उनके इस ट्वीट पर मजा लेते हुए एक यूजर ने लिखा था कि ‘पैरों मे बंधन हैं पायल ने मचाया शोर सारे बाथरूम कर लो बंद देखो आए टोटी चोर”।

वहीं एक यूजर ने लिखा था कि बाबा जी को देख कर के अच्छे अच्छों की हालात खराब हुई फिर ये टोटी चोर की क्या बात है? बता दें कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव उस प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान यह भी कहा था कि मैंने उस घर को अपनी पसंद से बनाया है। अगर मुझे कुछ पसंद है, तो वो मैं अपने पैसे से करूंगा, दूसरों के पैसे से नहीं।

Back to top button