समाचार

एग्जिट पोल के मुताबिक अगर आते हैं परिणाम, तो अखिलेश यादव को होंगे ये 4 बड़े फायदे

यूपी में सातों चरण के मतदान खत्म होने के बाद जितने भी एग्जिट पोल आए हैं सभी ने इस बात का मजबूती से अनुमान लगाया है कि यूपी में फिर से योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने जा रही है। एग्जिट पोल का ये अनुमान समाजावादी पार्टी और अखिलेश यादव के लिए निराशाजनक हो सकता है, लेकिन इसी एग्जिट पोल में उनके लिए 4 बड़ी खुशखबरी भी दी है जो उनके लिए राहत का विषय हो सकता है। ये 4 फायदे क्या हैं आपको आगे बताते हैं-

1.वोट शेयर और सीटों में इजाफा

लगभग सभी एग्जिट पोल्स ने एकमत से कहा है कि सपा गठबंधन 100 से 150 सीटों पर कब्जा कर सकता है, जबकि 2017 में महज 47 सीटों से संतोष करना पड़ा था। आज तक एक्सिस माय इंडिया के एग्जिट पोल के मुताबिक सपा को 71 से 101 सीटें मिल सकती हैं।

एबीपी-सी वोटर ने 132 से 148 सीटें मिलने का अनुमान लगाया है। न्यूज 24 चाणक्या ने 86-124 सीटें मिलने की बात कही है। टाइम्स नाउ वीटो का कहना है कि सपा 151 सीटें हासिल कर सकती है। वहीं, रिपब्लिक-पी मार्क के मुताबिक सपा 130-150 सीटों सीटों तक जा सकती है।

वहीं पार्टी के वोट शेयर में भी 2017 के मुकाबले काफी इजाफा होता दिख रहा है। वहीं, लगभग सभी एग्जिट पोल्स में सपा के लिए वोट शेयर में 10-15 फीसदी इजाफे का अनुमान लगाया गया है।

2.मायावती के वोटर्स अखिलेश की तरफ गए

akhilesh yadav

लगभग सभी एग्जिट पोल्स में वोट शेयर को लेकर जो अनुमान लगाया गया है उसके विश्लेषण से पता चलता है कि सपा ने बसपा के वोट शेयर में सेंधमारी की है। पार्टी के लिए यह राहत की बात है कि बसपा के खिसकते जनाधार को वह अपनी ओर मोड़ने में कामयाब रही है। मुस्लिम, यादव के बेस के साथ पार्टी को यदि दलित वोटर्स का भी साथ मिला है तो भविष्य में सपा के लिए यह शुभ ही साबित होगा।

3.बीजेपी का विकल्प बनने को तैयार

एग्जिट पोल्स का एक और साफ संदेश यह है कि यूपी की राजनीति अब भाजपा और सपा पर ही केंद्रित हो गई है। बसपा का जनाधार लगातार सिमट रहा है तो तमाम कोशिशों के बावजूद कांग्रेस जमीन नहीं तलाश पा रही है। ऐसे में यदि इस चुनाव में सपा सत्ता से दूर भी रह जाती है तो उसे यह संतोष जरूर होगा कि आने वाले समय में यदि जनता बीजेपी का विकल्प तलाश करेगी तो उसके सामने सिर्फ सपा होगी।

4.कार्यकर्ताओं का जोश बढ़ेगा

2017 और फिर 2019 के चुनाव में पहले कांग्रेस और फिर बसपा के साथ गठबंधन के बावजूद सपा को निराशाजनक परिणाम मिले थे। 2022 के एग्जिट पोल्स में भी पार्टी को सत्ता मिलती नहीं दिख रही है, लेकिन पार्टी के प्रदर्शन में जो इजाफा हुआ है, इससे कार्यकर्ताओं में एक सकारात्मक संदेश जरूर जाएगा। पार्टी कार्यकर्ताओं का उत्साह जरूर बढ़ सकता है, जोकि किसी भी राजनीतिक दल के लिए संजीवनी की तरह होता है।

Back to top button