समाचार

यूक्रेन की सेना विदेशी छात्रों को ढाल बना कर कर रही है हमला, सुरक्षित निकाशी में बन रहे हैं वाधा

नागरिकों को निशाना नहीं बना रही रूसी सेना, यूक्रेन की सेना विदेशी छात्रों को ढाल बना कर कर रही है हमला

भारत में रूस के राजदूत ने यूक्रेन पर गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि युद्ध के बारे में पश्चिम का मीडिया पूरी दुूनिया में जो प्रोपेगेंडा खड़ा कर रहा उसमें ज्यादातर बातें झूठी हैं। उन्होंने रूस-यूक्रेन जंग के बारे में असलियत बताते हुए ये भी कहा कि भारतीय

छात्रों को यूक्रेन  से सुरक्षित निकालने के लिए रूसी अधिकारी लगातार भारतीय अधिकारियों के साथ संपर्क में हैं और रूसी सेना हर संभव मदद कर रही है, लेकिन यूक्रेन में भारतीय छात्रों को परेशान किया जा रहा है। रूस के राजदूत ने यह भी आरोप लगाया कि यूक्रेन में सैनिक विदेशी छात्रों को मानव ढाल की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं।

नागरिकों को निशाना नहीं बना रही रूसी सेना

भारत में राजदूत रोमान बाबुश्किन ने ज़ी मीडिया को दिए अपने एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा कि यूक्रेन में भारतीय छात्र की मौत अत्यंत दुखद है और रूसी सरकार इस दुख की घड़ी में परिवार के साथ है। छात्र के मृत्यु की घटना की जांच की जा रही है ताकि पता लगाया जा सके कि किन परिस्थितियों में भारतीय छात्र की मृत्यु हुई है। हम नागरिकों को निशाना नहीं बना रहे हैं इसीलिए हमारी सेना की आगे बढ़ने की रफ्तार बहुत धीमी है.

यूक्रेन के लड़ाके नागरिकों को बना रहे ढाल

भारत में रूस के राजदूत रोमान बाबुश्किन ने कहा कि रूसी सैनिकों को सख्त आदेश दिए गए हैं कि किसी नागरिक को नुकसान नहीं पहुंचाया जाए। लेकिन यूक्रेनी लड़ाके विदेशी छात्रों को मानव ढाल की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं।

पश्चिम फेक न्यूज़ फैला रहा

रूसी राजदूत ने कहा कि पश्चिमी मीडिया द्वारा बहुत ज्यादा फेक न्यूज़ फैलाई जा रही है। आरोप लगाया गया कि रूसी सैनिकों ने एक न्यूक्लियर स्टेशन को तबाह किया है जोकि पूरी तरह गलत है। स्टेशन में यूक्रेनी लड़ाके जमा थे और उन्होंने रूसी सेना पर हमला किया।

रूसी सैनिकों की जवाबी कार्रवाई के बाद वो स्टेशन से भाग गए लेकिन जाते समय एक रिएक्टर में आग लगा दी। न्यूक्लियर स्टेशन पूरी तौर पर सुरक्षित है। रूसी सेना ने टीवी टॉवर पर हमला किया था लेकिन उसकी चेतावनी पहले ही दे दी गई थी ताकि लोगों की जान नहीं जाए।

Back to top button