समाचार

हिजाब विरोधी छात्रों को आतंकवादी कहने पर बुरी फंसी राणा अयूब, हो सकती है 3 साल की जेल!

अक्सर विवादों में रहने वाली महिला पत्रकार राणा अयूब एक बार फिर फंस गई हैं। अभी कुछ दिन पहले ही फाइनेंशियल हेरफेर करने के आरोप में ED ने उनपर कार्रवाई की थी, अब कर्नाटक के छात्रों को आतंकी कहने के मामले में भी उनकी मुश्किल बढ़ गई है।

हिजाब विवाद पर हिंदू छात्रों को आतंकी बताकर विवादित बयान देने वाली पत्रकार राणा अयूब के खिलाफ FIR दर्ज की गई है। राणा अयूब के खिलाफ कर्नाटक के हुबली धारवाड़ पुलिस ने उड्डपी कॉलेज में भगवा झंडा लहराने वाले छात्रों को आंतकवादी बताने वाले मामले में FIR दर्ज की है।

दरअसल, कर्नाटक में हिजाब को लेकर शुरू हुए विवाद को लेकर राणा अयूब ने 13 फरवरी को 2022 को बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में उड्डपी के कॉलेज के छात्रों को आतंकी करार दिया था। इसके बाद 21 फरवरी को हिंदू आईटी सेल ने राणा अयूब के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी।

बीबीसी को इंटरव्यू में दिया विवादित बयान

बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में राणा अयूब ने शिक्षण संस्थान में बुर्के का विरोध करने वाले हिंदू छात्रों को आंतकी बताया था। राणा अयूब ने कहा था कि अचानक से ये निगरानी रखने वाले युवा हिंदुओं का समूह क्यों है- उस मामले के लिए हिंदू आतंकवादी जो कर्नाटक में शैक्षिक परिसर में भगवा झंडे लहरा रहे हैं?”

दरअसल इस इंटरव्यू में अयूब से सवाल किया गया था कि एक शिक्षण संस्थान में पुरुष छात्र भगवा ध्वज क्यों लहरा रहे हैं। इसका क्या अर्थ है। इसी सवाल के जवाब में अयूब ने हिंदू छात्रों को आतंकी कहा था।

धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने का केस दर्ज

हिंदुओं के प्रति नफरत फैलाने वाला राणा अयूब का यह वीडियों तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। इसके बाद राणा अयूब के खिलाफ एक्शन लेते हुए हिंदू आईटी सेल ने शिकायत दर्ज कराई। जिसके बाद उनके खिलाफ 295A (धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने) तहत केस दर्ज हुआ है। इस अपराध में दोष सिद्ध होने पर तीन तक की जेल की सजा हो सकती है।

गौरतलब है कि प्रोपेगेंडा पत्रकार के तौर पर जानी जाने वाली राणा अयूब के खिलाफ हिजाब मामले में मुंबई के बांद्रा में केस दर्ज किया गया था। अयूब के खिलाफ यह केस बॉम्बे हाई कोर्ट के वकील आशुतोष जे दुबे ने दर्ज कराया था।

विदेशी प्लेटफॉर्म पर झूठ फैलाने वाली राणा अयूब अपने ही देश में वित्तीय धोखाधड़ी करने के कारण भी चर्चा में थीं। हाल में 1.77 करोड़ रुपए की संपत्ति ईडी द्वारा जब्त की गई। कथिततौर पर ये सारा पैसा उन्होंने केटो पर फंड इकट्ठा करने का नाम पर एकत्रित किया था। मगर, सारे पैसे का इस्तेमाल किए बिना उन पैसों को अयूब ने अपने अकॉउंट में रखे रखा।

आपको बता दें कि राणा अयूब अपने देश में वित्तीय धोखाधड़ी करने के कारण भी सुर्खियों में रही थी। हाल में ही ईडी ने उनपर कड़ी कार्रवाई करते हुए 1.77 करोड़ रुपये जब्त किए थे।

Back to top button