समाचार

UP चुनाव में BJP को क्यों नहीं मिला एक भी मुस्लिम उम्मीदवार? अमित शाह ने दिया ये जवाब

बीजेपी की अक्सर इस बात के लिए आलोचना की जाती है कि वो चुनाव में मुस्लिमों को पार्टी का टिकट नहीं देती है। देश के गृह मंत्री अमित शाह से जब एक बार फिर ये सवाल किया गया तो उन्होंने इसका बड़ा सटीक जवाब दिया। उनका क्या जवाब है आपको आगे बताते हैं।

अमित शाह ने दिया ये जवाब

गृह और सहकारिता मंत्री अमित शाह  ने भारतीय जनता पार्टी द्वारा उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में किसी मुस्लिम को टिकट ना दिए जाने के सवाल पर कहा है कि “सबका साथ सबका विकास हमारे लिए सिर्फ राजनीतिक नहीं बल्कि यह हमारी सरकार की नीति भी है।”

अमित शाह ने आगे कहा कि “अगर किसी मुस्लिम परिवार को फ्री राशन, फ्री गैस कनेक्शन, या घर ना मिले तो यह नारा गलत हो जाएगा। या फिर किसी हिन्दू इलाके में बिजली आए लेकिन मुस्लिम इलाकों में बिजली ना मिले, अगर ऐसा होता है तो यह नारा बेकार साबित हो जाएगा। लेकिन पूरे यूपी में देखें तो ऐसा नहीं हुआ है। बिना किसी भेदभाव के लोगों तक योजनाएं पहुंचाई गई हैं।”

BJP ने मुसलमानों को MLC और मंत्री बनाया

अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस को दिए एक इंटरव्यू में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा- “हमारा टिकट वितरण जीत के आधार पर होता है। अगर मीडिया, अल्पसंख्यकों और भाजपा के बीच दरार पैदा करना चाहेगा तो वो सफल नहीं होगा। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि यह अंतर खत्म हो जाएगा… आप भी इसमें भाजपा की मदद करें।

अगर आप यह सवाल पूछें कि ‘क्या कोई परिवार इस योजना से छूट गया है?’, तो वह अंतर कम हो गया होगा। लेकिन आप पूछते हैं टिकट मिला क्या?… मैं स्पष्टवादी हूं, इसलिए कह रहा हूं। हमारा टिकट वितरण जीत के आधार पर होता है।”

यह पूछे जाने पर कि “बीजेपी भारत की सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा करती है जिसके करोड़ों सदस्य हैं और फिर भी आपको एक भी मुस्लिम उम्मीदवार नहीं मिला?” अमित शाह ने कहा कि यूपी में साल 2017 में हमने 325 सीटें जीती थीं। फिर भी हमने एक मुसलमान को एमएलसी और फिर मंत्री बनाया। यूपी विधानपरिषद में हमने जिस एमएलसी को भेजा वह लंबे समय से हमारे कार्यकर्ता हैं।

Back to top button