समाचार

मुंबई में पैसे के लिए रिश्तों का कत्ल: शख्स की पत्नी और बेटे ने हत्या कर लाश 7वीं मंजिल से फेंक दी

मुंबई से रिश्तों को शर्मशार करने वाली घटना सामने आई है। यहां एक महिला ने अपने बेटे के साथ मिलकर अपने बैंक मैनेजर पति की हत्या कर उसे सातवीं मंजिल से नीचे फेंक दिया। दोनों ने इस मामले को आत्महत्या का रंग देने का प्रयास भी किया। लेकिन पुलिस ने जब अपनी तरह से पूछना शुरू किया तो दोनों टूट गए और अपना गुनाह कबूल कर लिया। जिसके बाद दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया। क्या है पूरा मामला आपको आगे बताते हैं-

मॉर्निंग वाक पर गए लोगों ने देखा शव

घटना शुक्रवार को मुंबई के वीरा देसाई रोड स्थित सिडबी क्वार्टर में सुबह चार बजे से चार बजकर 54 मिनट के बीच हुई है। मृतक की पहचान संतन कुमार शेषाद्री (54) के रूप में हुई है। वह स्मॉल इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट बैंक ऑफ इंडिया (SIDBI) में अस्सिस्टेंट जनरल मैनेजर की पोस्ट पर कार्यरत थे। उनके शव को देख मॉर्निंग वाक पर गए पड़ोसियों ने फोन कर पुलिस को इसकी सूचना दी।

हत्या के बाद शव 7वीं मंजिल से फेंका

मामले की जांच कर रहे अंबोली पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर अब्दुल रउफ ने बताया कि घर में पति को मारने के बाद महिला और उसके बेटे ने इसे आत्महत्या का रूप देने के लिए पति को फ्लैट की बालकनी से नीचे फेंका था। रउफ ने बताया कि हमने संतन कुमार शेषाद्री की हत्या के आरोप में उनकी पत्नी जयशीला शेषाद्रि (52) और बेटे अरविंद (26) को अरेस्ट किया है।

बेटे को कनाडा जाने के पैसे चाहिए थे

पुलिस अधिकारी के मुताबिक, आरोपियों का बयान है कि वे मृतक से तंग आ चुके थे, क्योंकि वह परिवार पर ध्यान नहीं देता था, उन्हें घर खर्च नहीं देता था और अक्सर छोटी-छोटी बातों पर झगड़ा करता था। जांच में यह भी सामने आया है कि अरविंद ने दो साल पहले इंजीनियरिंग कंप्लीट की है और वह हायर स्टडीज के लिए कनाडा जाना चाह रहा था, लेकिन संतन कुमार उसे पैसे नहीं दे रहे थे। इसी वजह से गुरुवार शाम को तीनों के बीच झगड़ा हुआ था। इसके बाद मां और बेटे ने मिलकर संतन कुमार को मारने का प्लान बनाया।

पत्नी और बेटे ने सिर पटक कर हत्या की

अब्दुल रउफ ने बताया कि सुबह चार बजे मां और बेटे ने संतन कुमार का सिर चार से पांच बार बेड पर तेज-तेज से मारा। संतन कुमार पर यह हमला तब हुआ, जब वे सो रहे थे। इसके बाद उनके हाथ की नस को चाकू से काटा और मरने की पुष्टि होने के बाद उन्हें बालकनी से ढकेल दिया। हालांकि, बालकनी से फेंकने के बाद मां और बेटे ने घर में फैले खून को साफ किया और खून से सने कपड़ों को वाशिंग मशीन में धो दिया।

ऐसे हुआ हत्या का खुलासा

वारदात की जानकारी मिलने के बाद फ्लैट में जैसे ही पुलिस टीम पहुंची, उसे मामला समझने में देर न लगी। घर की छत पर खून के धब्बे थे और कमरे में रखा सामान अस्तव्यस्त था। इसे देख कुछ ही देर में पुलिस को क्लियर हो गया कि यह आत्महत्या नहीं हत्या का केस है। इसके बाद मां और बेटे से अलग-अलग पूछताछ हुई और दोनों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया। हालांकि, पहले पत्नी ने कहा कि उन्होंने पहले भी दो बार सुसाइड का प्रयास किया था।

फालूत पैसे खर्च नहीं करते थे संतन

जांच में सामने आया है कि संतन कुमार का दो साल पहले चेन्नई से मुंबई ट्रांसफर हुआ था। SIDBI क्वार्टर में रहने वाले एक शख्स ने बताया, ‘संतन कुमार अच्छे व्यक्ति थे, लेकिन पैसों को हमेशा बचाने की बात करते थे। कभी एक भी पैसा फालतू नहीं खर्च करते थे। उनके बेटे और पत्नी इसी बात से परेशान रहते थे। उनकी मौत से हम शॉक में हैं और चाहते हैं कि दोषियों पर कड़ी कार्रवाई हो।’

Back to top button