हिन्दी समाचार, News in Hindi, हिंदी न्यूज़, ताजा समाचार, राशिफल

कू ची टनल, इसमें घुसने से डरते थे अमेरिकी सैनिक, जाने इस टनल का रहस्य!

वियतनाम का युद्ध काफी लम्बे समय तक चला था। इस युद्ध को अमेरिका और वियतनाम 1954 से 1975 तक लड़ते रहे। अगर इस युद्ध को छोटे विश्व युद्ध की संज्ञा दी जाए तो गलत नहीं होगा। इस युद्ध में दोनों तरफ के लाखों सैनिकों ने अपनी जान गंवाई थी। वियतनाम युद्ध के दौरान ‘कू ची’ टनल का खूब जिक्र मिलता है। आखिर ये कू ची टनल है, क्या जिसमें घुसने से अमेरिकी सैनिक भी डरते थे। आइये आज हम आपको बताते हैं इस टनल का रहस्य।

गुरिल्ला युद्ध में माहिर थे वियतनामी सैनिक:

दरअसल वियतनाम की सेना जंगलों में छुपकर लड़ने के लिए काफी प्रसिद्ध थी। उन्हें गुरिल्ला युद्ध में महारत हासिल थी। वह जंगल से आते थे और अचानक से अमेरिकी सैनिकों पर हमला करके गायब हो जाते थे। वह कहाँ से आते थे और कहाँ गायब हो जाते थे, इसके बारे में किसी को कुछ पता नहीं चल पाता था। वियतनामी सैनिकों ने अपनी सुरक्षा के लिए जंगल में एक टनल बनाई थी, जिसमें घुसने का हुनर केवल वही जानते थे। वह जंगल में आते और अमेरिकी सैनिकों को मारकर इसी में घुस जाते थे।

टनल की बनावट देखकर दंग रह गए अमेरिकी सैनिक:

जब कोई अमेरिकी सैनिक उन्हें पकड़ने के लिए इस टनल में घुसता था, तो टनल में लगे नुकीले तारों में फँस जाता था और उसकी मृत्यु हो जाती थी। धीरे-धीरे अमेरिका के कई सैनिक इस टनल की वजह से मारे गए। अमेरिकी सैनिकों को समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करें। अमेरिकी सैनिकों ने योजना बनाई और इस बार वह वियतनामी सैनिकों के पीछे-पीछे चलते हुए टनल तक पहुँच गए। टनल के अन्दर घुसकर जैसे ही इसकी बनावट देखी, अमेरिकी सैनिकों की हालत ख़राब हो गयी।

टनल का जाल फैला हुआ है 250 किलोमीटर तक:

जी हाँ एक छोटी सी टनल किसी बहुत बड़े जिले के बराबर थी। यह टनल वियतनाम के कू ची जिले में स्थित थी, इस लिए इसे कू ची टनल कहा जाता था। जंग चलते समय अमेरिकी सैनिक इस टनल के रहस्य को नहीं सुलझा सके। जब जंग ख़त्म हो गयी तब इस टनल के रहस्य को सुलझाया गया। इस टनल को हाथों से खोदकर बनाया गया था। इस टनल का जाल 250 किलोमीटर तक फैला हुआ था। युद्ध ख़त्म होने के बाद कू ची टनल की प्रसिद्धि की वजह से हर दिन इसे हजारों पर्यटक देखने के लिए आते हैं।

टनल में वास्तुदोष होने की वजह से हुई अकाल मृत्यु:

आपको बता दें पूरी टनल नहीं बल्कि उसका एक हिस्सा ही पर्यटकों को देखने के लिए खोला गया है। इसे देखने के बाद ही पता चल जायेगा कि शायद इसी वजह से वियतनामी सैनिकों ने अमेरिकी सैनिकों की नाक में दम किया हुआ था। टनल से 200 मीटर की दुरी पर ‘सैगोन’ नाम की नदी बहती है। नदी की भौगोलिक दिशा की वजह से टनल का ईशान कोण कट रहा है और पक्षिम दिशा में नदी और नैत्रित्य कोण में तलब है। वास्तुशास्त्र के अनुसार ईशान कोण, पक्षिमी दिशा और नैत्रित्य कोण में वास्तुदोष होता है, वहाँ अकाल मृत्यु होती है। शायद इसी वजह से इस टनल में हजारों अमेरिकी और वियतनामी सैनिकों ने अपनी जान गंवाई है।

DMCA.com Protection Status