स्वास्थ्य

बायीं तरफ सोने के ४ हैरतंगेज फायदों के बारे में जान कर आप चकित रह जाएंगे!

आपने इस सलाह पहले भी सुना होगा लेकिन इसके बारे में ज्यादा ध्यान नहीं दिया होगा। लेकिन यकीन मानिये यह जानने के बाद आपकी जिंदगी बदल जाएगी। कुछ स्वास्थ्य विशेषज्ञ अक्सर सलाह देते हैं कि आपको अपनी बाईं ओर सोना चाहिए क्योंकि यह आपके शरीर के लिए स्वस्थ है। अगर आप बायीं तरफ सोते हैं? benefits of left side sleeping.

आयुर्वेद के अनुसार, आपके शरीर के बाएं और दाएं पक्ष अलग होते हैं और दोनों अलग-अलग व्यवहार भी करते हैं। दिलचस्प बात यह है कि स्वास्थ्य के लिए बायीं ओर सोए जाने वाले सिद्धांत आयुर्वेद के प्राचीन और समग्र विज्ञान से निकले हैं। हम सभी जानते हैं कि समय और नींद की गुणवत्ता ज्यादा मायने रखती है, लेकिन इसके साथ ही नींद की स्थिति भी काफी मायने रखती है। हम आज आपको चार ऐसे लाभों के बारे में बताने जा रहे हैं जो बायीं तरफ सोने से प्राप्त होते हैं।

1- मजबूत होती है पाचनशक्ति:

इंसान का पेट और अग्न्याशय बाईं ओर स्थित होता हैं। उसी तरफ उस तरफ सोने से वह बेहतर कटी करता है। गुरुत्वाकर्षण के पुल के साथ, भोजन पेट के माध्यम से आसानी से गुजरता है। इसके साथ भोजन कचरे का उन्मूलन आसान हो जाता है। कमजोर भोजन और विषाक्त पदार्थों को स्वाभाविक रूप से छोटी आंत से बड़ी आंत में और अंत में बृहदान्त्र में जाता है। जहाँ से सुबह माल के रूप में बाहर निकल जाता है। इसलिए, यह बाईं तरफ सो रात भर में मदद करता है।

वास्तव में, आयुर्वेद के विशेषज्ञों का कहना है कि आपको अपने भोजन के बाद 10 मिनट की एक त्वरित शक्ति लेनी चाहिए और बेहतर पाचन के लिए बाईं तरफ सोना चाहिए। ऐसा करने से अनपाचा भोजन भी बहुत जल्दी पच जाता है।

2- अच्छा स्वास्थ्य:

यह समझना काफी आसान है। आपके बायीं तरफ आपका दिल है, इसलिए जब आप बाईं तरफ सोते हैं तो गुरुत्वाकर्षण बल की वजह से दिल की तरफ रक्त प्रवाह तेजी से होता है। यह आपके दिल को मजबूत बनाता है और बिमारियों से दूर रखता है।

3- गर्भवती महिलाओं के लिए है अच्छा:

विशेषज्ञों के अनुसार गर्भवती महिलाएँ बाईं ओर सोते समय जितना अधिक समय बिता सकती हैं बिताना चाहिए। क्योंकि इससे उनकी पीठ पर दबाव बढ़ने में मदद मिलती है और गर्भाशय और गर्भ का रक्त प्रवाह भी बढ़ता है। यह रीढ़ की हड्डी पर दबाव कम कर देता है जिससे आप अधिक आरामदायक महसूस करती हैं। यह बच्चे को स्वस्थ रखने के लिए नाल के पोषक तत्वों के सुगम प्रवाह में भी मदद करता है। अपने घुटनों को थोड़ा मोड़ लें और अपने पैरों के बीच तकिया को आसानी से रखें और सोयें।

4- खर्राटों से बचाव:

इस बात को आप मानिये या ना मानिये लेकिन एक बार कोशिश करने में कोई नुकसान नहीं है। अगर आप बाएँ तरफ ओते हैं तो आपके खर्राटें नहीं आते हैं। इसका कारण यह है कि बायीं तरफ सोने से आपकी जीभ और गाला दोनों तटस्थ स्थिति में रहते हैं। इस वजह से व्यक्ति को साँस लेने में कोई दिक्कत नहीं होती है। पीठ के बल सोने से आपको काफी परेशानियाँ भी हो सकती हैं, क्योंकि इससे आपकी मांसपेशियाँ गले की तरह चली जाती हैं और आपको साँस लेने में दिक्कत होती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close