राजनीति

आज से जीएसटी लागू, जीएसटी में मोबाइल चलाना पड़ेगा महँगा, जानें कैसे?

नई दिल्ली: एक देश एक टैक्स व्यवस्था यानी जीएसटी आज से पुरे देश भर में लागू हो गया है। जीएसटी का कई लोगों ने काफी विरोध किया और कुछ लोग इसके लागू होने के बाद भी इसका जमकर विरोध कर रहे हैं। लेकिन जीएसटी में जहाँ कुछ चीजें महँगी हुई हैं, वहीँ बहुत सी चीजें काफी सस्ती भी हो गयी हैं।

जीएसटी में भुगतान करने होगा एक टैक्स का:

Cheaper and costlier after GST

पहले की तरह लोगों को अब कई सरे टैक्स नहीं भरने पड़ेंगे। एक देश में एक टैक्स व्यवस्था को मद्देनजर रखते हुए जीएसट लाया गया है। इसके आ जाने से देश के लोगों को एक ही टैक्स भरना पड़ेगा। जीएसटी यानी वस्तु एवं सेवा कर पहले लोगों को किसी चीज पर कई तरह के टैक्स भरने पड़ते थे, लेकिन जीएसटी के आ जाने से केवल एक टैक्स का भुगतान करना पड़ेगा।

मोबाइल चलाने वालों को जीएसटी से थोड़ी निराशा हो सकती है:

आज से जीएसटी पुरे देश में लागू हो गया है। जीएसटी के लागू होने के बाद काफी चीजें पहले की अपेक्षा सस्ती हो जायेंगी। जीएसटी के अंतर्गत अधिकतम 28 प्रतिशत तक टैक्स लिया जायेगा। आज के समय में देश के लगभग हर तबके के पास मोबाइल फ़ोन है। मोबाइल फ़ोन आज के समय में बहुत जरुरी चीज बन गयी है। इसके बिना लोगों का काम ही नहीं होता है।

लेकिन अब मोबाइल चलाने वालों को जीएसटी से थोड़ी निराशा हो सकती है। जी हाँ जीएसटी के आने के बाद से मोबाइल चलाना थोड़ा महँगा हो जायेगा। जीएसटी व्यवस्था के लागू हो जाने से फ़ोन के बिल बढ़ने का अनुमान है। वहीँ प्रीपेड ग्राहकों को रिचार्ज कराने पर कम टॉक टाइम मिलेगा। पहले टेलिकॉम सेक्टर को 15 प्रतिशत टैक्स के दायरे में रखा गया था अब उसपर 18 प्रतिशत जीएसटी लगेगा।

टेलिकॉम कंपनियाँ ले सकती हैं टैक्स का कुछ भार अपने ऊपर:

पहले जब आप अपने मोबाइल में 100 रूपये का रिचार्ज कराते थे तो आपको 83 रूपये मिलते थे, लेकिन अब से आपको केवल 80 रूपये ही मिलेंगे। पोस्टपेड ग्राहकों के लिए भी लागत 3 प्रतिशत तक बढ़ जाएगी। 1000 रूपये महीने उपयोग करने वाले लोगों का महीने का फ़ोन बिल पहले 1150 आता था, अब वहीँ उन्हें 1180 रूपये भरने होंगे। यह भार ग्राहकों पर से कुछ कम तब हो सकता है जब टेलिकॉम कंपनियाँ टैक्स का कुछ भार अपने ऊपर ले लेती हैं।

Show More

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Back to top button
Close