विशेष

ट्रेन के सामने कूदा 16 साल का लड़का, सुसाइड नोट में लिखा PM Modi का नाम

'मोदीजी प्लीज म्यूजिक वीडियो बनवा देना' सुसाइड नोट लिख ट्रेन के सामने कूदा 16 साल का लड़का

सपने देखना हर किसी को पसंद होता है। लेकिन जब ये सपने टूटते हैं या इसके पूरे होने के आसार नजर नहीं आते, तो बहुत दुख होता है। कुछ लोग ये दुख सहन कर लेते हैं तो कुछ अपना जीवन समाप्त कर इस दुख से मुक्ति पा लेते हैं। इन दिनों बच्चों और युवाओं में सुसाइड के मामले कुछ ज्यादा ही देखने को मिल रहे हैं। खुदखुशी किसी भी समस्या का हाल नहीं होती है, लेकिन कुछ लोग इसे ही अपनी समस्याओं से छुटकारा पाने का सबसे आसान तरीका मानते हैं। अब मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर की यह घटना ही ले लीजिए।

ग्वालियर के रहने वाले 16 साल के लड़के ने रेल के सामने आकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। लड़का 11वीं क्लास का छात्र था। वह ग्वालियर शहर के कैंसर हॉस्पिटल इलाके में रहता था। झांसी रोड पुलिस स्टेशन के इनचार्ज संजीव नारायण शर्मा के अनुसार बच्चे ने रविवार रात को रेल के सामने आकर अपनी जान दे दी। तेज रफ्तार रेल उसके शरीर को काटते हुए आगे निकल गई और उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

लड़के के पास से एक कथित सुसाइड नोट भी मिला है। इस नोट में उसने देश के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का नाम भी लिखा है। दरअसल लड़के का एक डांसर बनने का सपना था। हालांकि उसे इस काम के लिए अपने दोस्तों और परिवार का सपोर्ट नहीं मिला। इस कारण उसका सपना पूरा न हो सका और उसने सुसाइड कर लिया। इस बात का जिक्र उसने अपने सुसाइड नोट में भी किया।

हैरत की बात ये रही कि उसने अपने सुसाइड नोट में पीएम नरेंद्र मोदी का नाम भी लिखा है। उसने मोदीजी से एक म्यूजिक वीडियो बनाने की विनती की है। लड़के ने प्रधानमंत्री से निवेदन किया कि वह उसके मरने के बाद एक म्यूजिक वीडियो बनाए जिसमे आवाज फेमस सिंगर अरिजीत सिंह की हो और डांस कोरियोग्राफी नेपाली आर्टिस्ट सुशांत खत्री करें। लड़के ने चिट्ठी में ये भी लिखा है कि उसकी आत्मा को तभी शांति मिलेगी जब ये म्यूजिक वीडियो बनेगा।

एक तरह से यह म्यूजिक वीडियो ही लड़के की अंतिम इच्छा है जिसे पूरा करने के लिए उसने पीएम मोदी से विनती की है। फिलहाल पुलिस इस मामले की हर एंगल से जांच कर रही है। आगे की जांच पड़ताल के बाद ही पुलिस इस मामले पर और कुछ कह सकेगी। वहीं लड़के की मौत से परिवार में मातम का माहौल है। अब उन्हें पछतावा हो रहा है कि उन्होंने अपने बेटे को उसके डांसर बनने के सपने में सपोर्ट क्यों नहीं किया।

वैसे इस पूरे मामले पर आपकी क्या राय है हमे कमेंट कर जरूर बताएं। साथ ही यदि आपके मन में सुसाइड का ख्याल आए तो उसे फट से बाहर निकाल दें। खुदखुशी किसी भी समस्या का समाधान नहीं होती है। आप हिम्मत से काम लें, मेहनत करते रहें और अपना दुख दूसरों के साथ भी शेयर करें। जरूरत पड़े तो मनोचिकित्सक से भी मिले।

Back to top button
?>