दिलचस्प

देखें वीडियो: भाई-बहन में शादी को लेकर पाकिस्तानी लड़कियों की क्या है सोच

परम्पराएं और धार्मिक रीति रिवाज हमारी इच्छा के अनुरूप नहीं होते हैं, कई बार परम्पराएं ऐसी भी होती हैं जिनके पीछे का हम वास्तविक कारण भी नहीं जानते और चूंकि वह परम्परा है सदियों से हमारे पूर्वजों द्वारा मानी जा रही है इसलिए हम भी उनको मान लेते हैं. बहुत सी परम्पराएं और रीति रिवाज आज के समय के लिहाज से प्रासंगिक नहीं हैं मगर परम्परा होने के नाते उन्हें माना जा रहा है. भारत और पाकिस्तान में सांस्कृतिक और पारंपरिक तौर पर बहुत सी समानताएं हैं. चूंकि दोनों देश पहले एक ही थे इसलिए दोनों देशों की संस्कृति में समानता बाहुत ज्यादा है.

भाई-बहन में शादी को लेकर पाकिस्तानी लड़कियों सोच :

समाज में शादी का बहुत महत्व है क्योंकि शादी को कुल और वंश बढ़ाने का माध्यम माना जाता है, ऐसे में सभी धर्मों और देशों में शादी के सम्बन्ध में अलग अलग रीति रिवाज और परम्पराएं हैं. भारत में खासकर हिन्दू धर्म में एक ही जाति के लोग उसी जाति में विवाह करते हैं, मगर अब इंटरकास्ट शादियों का प्रचलन भी हुआ है. ज्यादातर जगहों पर शादी विवाह समान जाति के कुल और परिवार में किया जाता है.

वहीँ इस्लाम धर्म में एक रीति के अनुसार अपने ही परिवार में शादी करने की छूट होती है, मगर एक मां के बच्चे आपस में शादी नहीं कर सकते हैं, यानी कि एक ही मां का दूध पिए बच्चे शादी के बंधन में नहीं बंध साकते उसके अतिरिक्त चचेरे भाई-बहन, मौसेरे भाई-बहन और फुफेरे भाई-बहन शादी के बंधन में बंधकर पति पत्नी हो सकते हैं, बार के लिए यह सोचने में अजीब भी लगता है कि जो लड़की रिश्ते में आपकी बहन होगी वह आपकी पत्नी भी हो सकती है.

इस मुद्दे पर एक youtuber ने पाकिस्तान के युवाओं से उनकी राय ली, और जानना चाहा कि इस तरह की शादियों के बारे में पाकिस्तान के मुसलमान युवा क्या सोचते हैं, और उन्हें इस मुद्दे पर लय महसूस होता है. आजकल यह वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है, 21 सितम्बर 2015 को अपलोड किये गए इस वीडियो को अबतक 12 लाख से अधिक व्यूज मिल चुके हैं, इसे देसी ज्ञान नाम के एक youtube चैनल ने अपलोड किया है. आप भी देखिये और जानिये शादी के मामले में क्या सोचते हैं पाकिस्तानी लोग.

देखें वीडियो-

Related Articles

Close