नई दिल्ली – महिलाओं पर अत्याचार, शोषण और उनका कत्ले आम ये शायद अब आम बातें हो गई हैं। लेकिन, एक तेजाब का शिकार (एसिड अटैक) महिला के दर्द के आगे दुनिया के सभी दर्द बहुत छोटे नजर आते हैं। लड़कियों को जिस्मानी व दिमागी तकलीफें देने से कहीं ज्यादा खतरनाक है उसके चेहरे को जला देना। पुरुषवादी मानसिकता से घिरे लोग लड़कियों से उनकी खूबसूरती छीन लेते हैं और उनको कुछ ऐसे जख्म देते हैं जो बाहर से तो कम लेकिन अंदर से ज्यादा गहरे होते हैं। Video on Acid attack.

अक्सर इंकार होती है एसिड अटैक की वजह :

वैसे तो महिलाओं का शोषण हजारों साल से होता आ रहा है, लेकिन एसिड अटैक वो भयावह सच है जो महिलाओं के चेहरे से ज्यादा पुरुष की आत्मा के कालेपन को दिखाता है। इस वीडियो में इस तरह की मानसिकता वाले लोगों से कई सवाल किये गए हैं। जिनमें सबसे पहला सवाल ये है कि, मेरा कसूर तो बता दो, मेरा इंकार था ये तुम्हारा इजहार।

फिर वीडियो में दूसरा सवाल किया गया है जो शायद दुनिया कि सभी एसिड अटैक पीडिता की ओर से है, गलती शायद मेरी थी प्यार तुम्हारा देख न सकी, इतना पाक प्यार था कि मैं समझ न सकी। मैं तो अपनी गलती मानती हूं, लेकिन क्या अब तुम मुझे अपनाओंगे। क्या मुझे अपनी दुल्हन बनाओंगे।

एसिड अटैक पर बने हैं सख्त कानून, लेकिन पालन नहीं होता :

एसिड अटैक की वजह से बहुत सारी लड़कियों और महिलाओं की जान जा चुकी है। हजारों लाखों लड़कियों और महिलाओं कि जिंदगी बर्बाद हो चुकी है और वो बद से बदतर हालात में अपना जीवन यापन करने को मजबूर हैं। जिसे देखते हुए साल 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने तेजाब की बिक्री पर रोक लगाने के लिए कहा था। लेकिन, अभी भी कई राज्यों में एसिड खुलेआम बिक रहा है।

बात करें उस वीडियो की जो हम आपको दिखाने जा रहे हैं, तो यह वीडियो महिलाओं और लड़कियों पर होने वाले अत्याचार और उसके बाद उनके मन में उठते सवालों को बयां करता है। एसिड अटैक के पीछे शायद एक वजह जो है वो ये है कि, पिछले कुछ सालों से महिलाएं हर क्षेत्र में सफल हो रही हैं जो इस कुंठित मानसिकता से ग्रस्त पुरुषवादी समाज को गवारा नही है, शायद इसीलिए कुंठित मानसिकता वाले लोगों ने महिलाओं पर अत्याचार के लिए एसिड अटैक जैसे बर्बर तरीके को चुना है।

 

देखें वीडियो –

Leave a Reply

Your email address will not be published.