समाचार

बेनकाब हुआ पाकिस्तान तालिबानी नेता मुल्ला बरादर के पास पाक आईडी और पासपोर्ट

हाल ही में मुल्ला बरादर को अफगानिस्तान की तालिबान सरकार में उप प्रधानमंत्री बनाया गया है

पाकिस्तान भले ही खुद को बार-बार आतंकियों से अलग करके दिखाने की कोशिश करे, लेकिन असलियत हर बार खुलकर सामने आ जाती है। वो अफगानिस्तान में तालिबान का खुलकर समर्थन कर रहा है इस बात में कोई शक नहीं है। लेकिन अब आतंकी संगठन तालिबान में दो नंबर की हैसियत रखने वाले मुल्ला अब्दुल गनी बरादर के पास पाकिस्तानी पासपोर्ट और नेशनल आईडेंटिटी कार्ड होने की बात सामने आई है जिससे साफ हो चुका है पाक लंबे समय से आतंकी संगठन तालिबान की मदद कर रहा था।

MULLAH BARADAR

मुल्ला बरादर के पास पाकिस्तानी पासपोर्ट होने का खुलासा हुआ अफगानिस्तान की एक न्यू़ज़ एजेंसी खामा की रिपोर्ट से। एजेंसी की बेबसाइट khaama.com ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया कि मुल्ला बरादर के पास पाकिस्तान का पासपोर्ट और वहीं का राष्ट्रीय पहचान पत्र है।

MULLAH BARADAR

हांलाकि इस पासपोर्ट में उसने अपनी पहचान छुपाते हुए दूसरा नाम बताया है। रिपोर्ट के मुताबिक पासपोर्ट पर मुल्ला बरादर का नाम मोहम्मद आरिफ आगा और उसके बाप का नाम सैयद नजीर आगा दर्ज है लेकिन हास्यास्पद बात ये है कि इस पासपोर्ट पर फोटो मुल्ला बरादर का ही लगा हुआ है। शक है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI ने ही उसे ये फर्जी पासपोर्ट और पहचान पत्र बनाने में मददकी होगी।

MULLAH BARADAR

खास बात यह है कि खामा न्यूज़ ने मुल्ला बरादर के पहचान पत्र वाली ख़बर जून 2020 में पब्लिश की थी और अब ये वायरल हो रही है। एजेंसी को ये डाक्यूमेंट अफगान सरकार के वक्त वहां की खुफिया एजेंसी NDS ने ही लीक किए थे। पासपोर्ट नंबर GF680121 है और इस पर पाकिस्तान के रजिस्ट्रार जनरल के दस्तखत भी हैं। रिपोर्ट के अनुसार कि पासपोर्ट और आईडी कार्ड एक ही तारीख पर जारी हुआ जबकि सामान्य तौर पर आईडी कार्ड बनने के कुछ समय बाद ही पासपोर्ट बनता है।

तालिबान और पाकिस्तान का पुराना साथ

अफगान सरकार लगातार कह रही थी कि तालिबान के बड़े नेता पाकिस्तान के क्वेटा में रहते हैं और वहीं से संगठन का संचालन करते हैं। इन नेताओं की जमात को ही ‘क्वेटा शूरा’ यानी क्वेटा की समिति कहा जाता है। तालिबान सरगना हिब्तुल्लाह अखुंदजादा और बाकी कुछ नेता भी लंबे वक्त तक यही रह रहे हैं। पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख रशीद भी कईं बार इस बात को मान चुके हैं और तब सच्चाई सबके सामने है।

समय के साथ सामने आ रहा तालिबान का क्रूर चेहरा 

MULLAH BARADAR

पूरे अफगानिस्तान पर कब्जे के साथ ही तालिबान का क्रूर चेहरा भी सामने आता जा रहा है। पहले उसने कहा था कि अब ऐसा कुछ नहीं होगा जैसी हिंसा पहले हुई थी लेकिन कल ही तालिबानी आतंकियों ने एक युवक को उसके घर से निकालकर गोलियों से भून दिया। उन्हें शक था कि युवक पंजशीर में रेजिस्टेंस फोर्स का साथ दे रहा था। उसका दोस्त तालिबानियों को समझाता रहा लेकिन उससे पहले ही उन्होनेे उसपर गोलियां दाग दी।

दो दिन पहले ही तालिबानियों ने अमरुल्लाह सालेह के भाई की बेरहमी से हत्या कर दी थी। यहां तक की उनका शव भी परिवार को देने से मना करते हुए कहा था कि इसका शव सड़ जाना चाहिए

आतंक के साए में लगी क्लास

इसी बीच तालिबानियों ने काबूल यूनिवर्सिटि में शरिया कानून को लेकर एक लेक्चर का आयोजन किया जिसमें करीब 300 युवतियां शामिल हुई। इस तस्वीर में आप देख सकते हैं कि युवतियों को सिर से लेकर पैर तक अपने आप को बुर्के से ढंकना पड़ा था।

taliban

क्लास में युवतियों से शरिया कानून की शपथ दिलवाई गई साथ ही लड़के और लड़कियो की क्लासेस भी अलग-अलग लगाने का निर्देश दिया गया है।

लेक्चर दे रही महिला भी पूरी तरह बुर्के से ढंकी हुई है उसके पास ही तालिबानी लड़ाका खड़ा है इस तस्वीर से वहां तालिबान की दशहत का अंदाजा लगाया जा सकता है।

Back to top button