इन गैंगस्टरों ने पुलिस से बचने के लिए मार ली खुद को गोली, जानें क्या है मामला!

हरियाणा/सिरसा: गुंडे बदमाश और गैर कानूनी काम करने वाले लोग ऊपर से जितने सख्त और मजबूत दिखते हैं, अन्दर से उतने ही कमजोर होते हैं, इसी का नमूना है यह खबर. आत्महत्या खुद में एक पाप है हालांकि जिसे पाप पुण्य और अच्छे बुरे की परवाह ही न हो उससे इस बारे में कैसी उम्मीद, लेकिन इन बातों के इतर आत्महत्या को बुजदिली और कमजोरी की निशानी भी माना जाता है.

तीन गैंगस्टरों ने एक दूसरे को गोली मारकर आत्महत्या कर ली :

पंजाब और हरियाणा में बन्दूक और गुंडागर्दी के दम पर लोगों को लूटने और डराने वाले तीन गैंगस्टरों ने एक दूसरे को गोली मारकर आत्महत्या कर ली. दरअसल वह पुलिस से घिर चुके थे, तो उन्होंने खुद को पुलिस के हवाले करने अच्छा एक दूसरे को गोली मारना समझा. इस हम यूं भी समझ सकते हैं कि अब वो जानते थे कि पुलिस के हत्थे चढ़ने के बाद उन्हें कोई बचा नहीं पायेगा.

पंजाब के रहने वाले और मोस्ट वांटेड गैंगस्टर कमलजीत सिंह, जसप्रीत सिंह और निशान सिंह की पुलिस लम्बे समय से खोजबीन कर रही थी, पुलिस को हरियाणा के सिरसा के डबवाली क्षेत्र में इन गैंगस्टरों के छिपे होने की जानकारी मिली और उसके बाद पुलिस ने वहां घेराबंदी कर मुठभेड़ की तैयारियां कर लीं. इसके बाद पुलिस और गैंगस्टरों के वहां फायरिंग शुरू हो गयी. पुलिस ने घेराबंदी तेज कर दी ताकि गैंगस्टर वहां से नहीं निकल पाएं. हरियाणा के सिरसा में यह घटना मंगलवार सुबह 5 बजे के लगभग हुई.

पंजाब और हरियाणा पुलिस को इन तीनों गैंगस्टरों की लम्बे समय से तलाश थी, पुलिस की घेराबंदी के बाद जब इन बदमाशों ने पाया कि ये किसी भी तरह से नहीं निकल पाएंगे, तो इन्होंने गिरफ्तारी के डर से एक दूसरे को गोली मार दी, उनमें से 2 की मौके पर ही मौत हो गयी और एक की हालत अभी नाजुक बताई जा रही है. उसे पुलिस ने अस्पताल में भर्ती कराया है. पुलिस अभी मामले की पूरी जांच कर रही है. पुलिस के मुताबिक बदमाश कमलजीत सिंह उर्फ बंटी ढिल्लो पंजाब के बठिंडा, जसप्रीत सिंह उर्फ जिम्पी डॉन रुर्कीपुरा और निशान सिंह फिरोजपुर का रहने वाला है.