केंद्र सरकार की क्रांतिकारी पहल, यात्रियों को देना होगा केवल तय की गयी दूरी के हिसाब से टोल टैक्स!

राष्ट्रीय लोकतान्त्रिक गठबंधन सरकार एक ऐसी नीति पर काम कर रही है, जिसके बाद यात्रियों को केवल तय की गई दूरी के हिसाब से टोल टैक्स देना होगा। वर्तमान समय में यात्रियों को एक निश्चित दूरी तक के लिए निर्धारित किये गए टोल को भरना ही पड़ता है, चाहे वह उतनी दूरी यात्रा करें या ना करें। तथाकथित खुली टोल नीति के तहत एक परियोजना के तहत खंड की लम्बाई के आधार पर देय शुल्क निर्धारित किया गया है, 60 किमी तक है।

एक संभावित गेम-चेंजर के रूप में सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा नई “बंद टोल नीति” पर काम किया जा रहा है। आगे से यात्रियों को केवल उन दूरी के लिए प्रति किलोमीटर के आधार पर चार्ज करना होगा, जितनी वे यात्रा करते हैं। प्रस्तावित नीति सभी एक्सेस-नियंत्रित राजमार्गों और देश में एक्सप्रेसवे पर लागू होगी। यह कदम इसलिए लिया गया है कि देश के राष्ट्रीय राजमार्गों पर टोल दरें बढ़ती जा रही हैं, जिससे सड़क की यात्रा अधिक महंगी हो जाती है। राजमार्ग पर टोल शुल्क हर वर्ष संशोधित किया जाता है और नए शुल्क की गणना लगभग 5 रुपये बढ़ जाती है।

इस साल हो सकता है इसका उद्घाटन:

इस योजना को सबसे पहले 135 किलोमीटर के पूर्वी पिरिपरल एक्सप्रेसवे पर शुरू किया जाएगा जो कि दिल्ली को छोड़कर हरियाणा और उत्तर प्रदेश को कवर करेगी। 7,000 करोड़ रुपये के एक्सप्रेसवे का लक्ष्य दिल्ली में यातायात को कम करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय राजधानी में नहीं जाने वाले वाहनों के लिए वैकल्पिक मार्ग उपलब्ध कराया जाना है। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने नाम का खुलासा ना करने की शर्त पर बताया कि, “पहला एक्सप्रेसवे/राजमार्ग जिसपर बंद टोल नीति लागू की जाएगी, वह पूर्वी परिधीय एक्सप्रेस है। इसका उद्घाटन संभवतः इस साल किया जाएगा।”

मिल सकती है टोल सड़कों के इस्तेमाल को लोकप्रिय बनाने में मदद:

पिछले हफ्ते इंडिया इंटीग्रेटेड ट्रांसपोर्ट एंड लॉजिस्टिक्स समिट के दौरान, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने संकेत दिया था कि उनका मंत्रालय “वेतन प्रति किलोमीटर” परियोजना पर काम कर रहा था। इस कदम से टोल सड़कों के इस्तेमाल को लोकप्रिय बनाने में मदद मिल सकती है। सरकार की योजना को 21,000 किलोमीटर की सड़कों पर फैले 40 आर्थिक गलियारों के विकास के लिए महत्व दिया जाता है। जिसमें 3 खरब डॉलर के निवेश का आवंटन होता है। सरकार की भारत माला परियोजना के तहत बनने वाली कुल सड़क की लंबाई लगभग 51,000 किलोमीटर एक्सप्रेसवे के रूप में विकसित की जाएगी।

कंप्यूटर की गणना के हिसाब से करना होगा टोल टैक्स का भुगतान:

भारत में राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के अधीन कुल 362 टोल प्लाजाएं हैं, जो 2015-16 तक 18,807 किमी की सड़कों की देखरेख करते थे। टोल प्लाजाओं से 17,250 करोड़ रुपये का राजस्व उत्पन्न किया गया। सरकार 2019 तक 96,000 किलोमीटर से बढ़ाकर राष्ट्रीय राजमार्गों की लंबाई 200,000 किलोमीटर तक करने की योजना बना रही है।

“सरकार की पहले से ही एक नीति है कि टोल रोड पर कितना पैसा प्रति किलोमीटर चार्ज किया जाए। वही दर बंद टोल नीति पर भी लागू होगा। इसमें एकमात्र फर्क सिर्फ इतना होगा कि यात्रा किए जाने वाले किलोमीटर को मापा जाएगा और उस पर आधारित कम्यूटर से चार्ज किया जाएगा, जहां से वह टोल रोड पर आए थे और जहां से वह बाहर निकलेगा। विशेषज्ञों का कहना है कि इस प्लान को लागू करना काफी कठिन होगा।

इस योजना को लागू करने पर करना होगा कई चुनौतियों का सामना:

परामर्शदाता कंपनी केपीएमजी में बुनियादी ढांचा और सरकारी सेवाओं के भागीदार जयजीत भट्टाचार्य ने कहा कि, “यह सही दिशा में एक कदम है, लेकिन राष्ट्रीय राजमार्गों जैसे कई कार्यान्वयन में कई चुनौतियां होने वाली हैं। कई प्रवेश और निकास के बिंदु हैं और टोल कलेक्टर/कंपनी, एक वाहन द्वारा यात्रा की दूरी पर एक टैब कैसे रखेगी?” पीडब्ल्यूसी इंडिया के पार्टनर और लीडर-इंफ्रास्ट्रक्चर, मनीष अग्रवाल ने जयजीत भट्टाचार्य की कही बातों पर सहमति व्यक्त की है। उन्होंने कहा, “इसे लागू करने के लिए ई-टोलिंग एक पूर्व-आवश्यकता होगी।” उन्होंने आगे कहा कि, अगर सरकार ऐसा करने में सक्षम है, तो यात्रियों को औसत दूरी की यात्रा के आधार पर सही तरीके से चार्ज किया जा सकता है।

हर साल हो रहा है 6.6 अरब का नुकसान:

इस तरह के एक्सप्रेसवे का उद्देश्य देरी को कम करना है, क्योंकि वे पहुंच-नियंत्रित हैं। कोलकाता के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम) द्वारा वर्ष 2008-09, 2011-12 और 2014-15 के कैलेंडर आंकड़ों के सर्वेक्षण आंकड़ों के तुलनात्मक अध्ययन के मुताबिक माल ढुलाई के लिए परिवहन के विलंब में हर साल 6.6 अरब डॉलर का नुकसान हो रहा है। अध्ययन के मुताबिक इन देरी की कीमत ईंधन खपत के कारण 14 अरब डॉलर प्रति वर्ष है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.