केंद्र के रास्ते पर चलकर करेंगे यूपी से भ्रष्टाचार का खात्मा और बनायेंगे स्वावलंबी: श्रीकांत !

केंद्र की तरह ही बीजेपी ने उत्तर प्रदेश में भारी बहुमत पाकर एक बार फिर अपनी सरकार बना ली है। बीजेपी की इस जीत ने उन तमाम विरोधियों के मुंह पर ताला लगा दिया है, जो यह कहते थे कि बीजेपी जातिगत राजनीति करती है। यूपी की जीत के पीछे किसी एक जाति या समुदाय का हाथ नहीं है, बाकि सभी जातियों और समुदायों के लोगों ने दिल खोलकर अपना समर्थन बीजेपी को दिया।

उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री और प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने बीजेपी की इस जीत पर कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने देश से जातिगत और धर्म आधारित राजनीति को समाप्त करने का काम किया है। केंद्र की तरह ही यूपी की योगी सरकार भी प्रदेश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाकर प्रदेश को आर्थिक रूप से मजबूती प्रदान करने की तरफ कदम बढ़ा चुकी है।

अन्य राज्य भी कर रहे हैं केंद्र को फॉलो:

शर्मा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि मोदी सरकार ने देश से जातिगत और धर्म आधारित राजनीति को समाप्त कर दिया है। यूपी की योगी सरकार और अन्य राज्यों को बीजेपी सरकार केंद्र की तरह ही काम करने की कोशिश में लगी हुई है। पिछली सरकारों की तरह नहीं, यूपी में बीजेपी सरकार जनता की नजरों से नजर मिलाकर काम कर रही है। उत्तर प्रदेश में भ्रष्टाचार कत्तई बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।

किसानों की समस्या पर ध्यान देना है जरूरी:

भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के लिए प्रदेश की कानून व्यवस्था को भी कड़ा किया गया है। शर्मा ने कहा कि यूपी के सामने महिला सुरक्षा, कानून व्यवस्था और किसानों की हालत से सम्बंधित कई मामले हैं, जिनमें सुधार की जरूरत है। चुनाव के समय जिस संकल्प पत्र के दम पर बीजेपी प्रदेश की सत्ता पर काबिज हुई है, योगी सरकार उस पर अमल कर रही है। शर्मा ने कहा कि हमें अपने बजट के लीकेज को समाप्त करने की जरूरत हैं बिना इसके हम आर्थिक रूप से स्वावलंबी नहीं बन सकते हैं।

दोषियों के खिलाफ की जाएगी कानूनी कार्रवाई:

उत्तर प्रदेश में अन्य समस्याओं के साथ एक और बड़ी समस्या है, सरकारी जमीन पर अवैध कब्जे की। प्रदेश सरकार ने एक योजना के तहत ऐसी सभी जमीनों की पहचान करने की कार्रवाई शुरू कर दी है। लगभग 2 महीने में इस काम को पूरा कर लिया जायेगा। इसके बाद इसमें दोषी पाए जाने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.