बॉलीवुड

जब रानी मुखर्जी को फोन लगाकर आमिर खान ने मांगी माफ़ी, जाने क्या थी वजह

हिंदी सिनेमा की जानी-मानी अभिनेत्री रानी मुखर्जी आज अपना 43वां जन्मदिन मना रही है. आज ही के दिन साल 1978 में उनका जन्म मुंबई में हुआ था. रानी मुखर्जी बीते दो दशक से भी अधिक समय से फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ी हुई है. अब तक उन्होंने कई शानदार फिल्मों में काम किया है. कई फ़िल्में तो ऐसी रही है, जो उन्होंने केवल अपने दम पर ही हिट करवाई है.

रानी मुखर्जी ने अपने समय के लगभग हर बड़े कलाकार के साथ काम किया है. रानी मुखर्जी ने अपने काम से फिल्म इंडस्ट्री में अपनी एक अलग और एक ख़ास पहचान बनाई है. लेकिन उनकी आवाज के चलते उनके लिए इंडस्ट्री में टिके रहना आसान नहीं था. उन्हें करियर में संघर्षों से भी होकर गुजरना पड़ा है. आइए आज उनके जन्मदिन के अवसर पर हम आपको उनसे जुड़ी कुछ ख़ास बातें आपको बताते हैं…

इस बात में कोई दो राय नहीं है कि आज हर कोई रानी मुखर्जी के काम का लोहा मानता है, लेकिन अक्सर उनकी आवाज पर भी सवाल खड़े होते रहे हैं. कई बार रानी की आवाज को एक अभिनेत्री की आवाज के तौर पर नहीं देखा गया है. लेकिन उन्होंने इसके बावजूद खुद को साबित किया है. रानी के करियर के शुरुआती दिनों में कहा जाता था कि उनकी आवाज़ आदर्श अभिनेत्रियों की तरह पतली नहीं है.

गुलाम में डब की गई थी आवाज…

अपनी आवाज के चलते रानी को उस समय बहुत बड़ा झटका लगा था, जब करियर में कुछ एक फ़िल्में देने के बाद ही उनकी आवाज डब की गई थी. रानी ने खुद अपने एक साक्षात्कार में बताया था कि, फिल्म ‘गुलाम’ में उनकी आवाज डब की गई थी. बता दें कि, साल 1988 में आई इस फिल्म में रानी के साथ अहम रोल में अभिनेता आमिर खान देखने को मिले थे. आमिर के साथ ही निर्देशक विक्रम भट्ट और निर्माता मुकेश भट्ट को भी लगा कि उनकी असल आवाज किरदार को शोभा नहीं दे रही है. ऐसे में सभी ने मिलकर यह बड़ा कदम उठाया था.

बता दें कि, साल 1998 में रानी की फिल्म गुलाम के साथ ही ‘कुछ कुछ होता है’ भी रिलीज हुई थी. रानी एक साथ दोनों फिल्मों की शूटिंग में व्यस्त थी. बताया जाता है कि, रानी की पहली फिल्म में ही उनकी आवाज को डब किया गया था तो रानी से ‘कुछ कुछ होता है’ के निर्देशक करण जौहर ने कहा था कि वो उनकी आवाज को डब नहीं करेंगे और उनकी ओरिजिनल आवाज का ही इस्तेमाल करेंगे. रानी इस बात से बेहद खुश थी.

अपने साक्षात्कार में रानी मुखर्जी ने इस बारे में बात करते हुए बताया था कि, ‘करण नए निर्देशक थे वो मेरे किरदार की आवाज किसी और से डब करवा सकते थे पर उन्होंने मुझ पर भरोसा जताया और कहा की मेरी आवाज मेरी आत्मा है. उनका ये विश्वास मेरे लिए आगे चलकर मेरी हिम्मत बनी.’ अभिनेत्री आगे बताती है कि, ”कुछ-कुछ होता है देखने के बाद आमिर खान ने मुझे फोन किया और मुझसे माफी मांगी और कहा की मुझे विश्वास नहीं था की तुम्हारी आवाज फिल्म के लिए सही है पर फिल्म देखने के बाद मैं शब्द वापस लेता हूं. तुम्हारी आवाज अच्छी है.”

पिता की फिल्म से किया था डेब्यू…

रानी मुखर्जी के फ़िल्मी करियर की शुरुआत बंगाली सिनेमा से हुई थी. उनकी फिल्म बियेर फूल थी. ख़ास बात यह है कि इस फिल्म का निर्देशन रानी के पिता राम मुखर्जी द्वारा किया गया था. रानी के संग इस फिल्म में अहम रोल में अभिनेता प्रोसेनजीत चटर्जी देखने को मिले थे.

रानी की हिट फ़िल्में..

रानी ने करियर में कई सफल फ़िल्में दी है. इनमें गुलाम, कुछ कुछ होता है, मन, हैलो ब्रदर, हे राम, हद कर दी आपने, बिच्छू, हर दिल जो प्यार करेगा, कहीं प्यार ना हो जाए, चोरी चोरी चुपके चुपके, नायक, हिचकी, मर्दानी और कभी खुशी कभी गम शामिल है.

Back to top button
?>