समुद्र में तैराकी करने गए इंजीनियरिंग के 8 स्टूडेंट्स की मौत, मौज मस्ती में चली गयी जान!

महाराष्ट्र: कर्नाटक के एक इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र-छात्राओं का एक ग्रुप महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग जिले में समुद्र तट पर पिकनिक मनाने गया था, लेकिन हाई टाइड की वजह से 8 छात्रों की डूबकर मौत हो गई. मरने वालों में 5 लड़के और 3 लड़कियां शामिल हैं.

समुद्र में काफी अन्दर तक चले गए :

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ये सभी छात्र बेलगांव के रहने वाले थे. यह घटना शनिवार को दोपहर में हुयी, सभी छात्र छात्राएं समुद्र में स्विमिंग कर रहे थे. इस दौरान यह समुद्र में काफी अन्दर तक चले गए. दोपहर में इस क्षेत्र में हाई टाइड की स्थिति रहती है. ऐसे में गहरे समुद्र में जाना किसी के लिए भी खतरनाक साबित होता है.

पुलिस ने बताया कि वायरी कोस्ट पर तैराकी करने आये इन सभी छात्रों में से कुछ डूबने लगे हालांकि 3 छात्रों को बचा लिया गया है. जब कुछ लोग डूबने लगे तो ग्रुप के अन्य लोगों ने उन्हें बचाने की कोशिश की मगर तबतक देर हो चुकी थी.

3 को सुरक्षित बचा लिया गया :

गौरतलब है कि बेलगांव के मराठा इंजीनियरिंग कॉलेज के 47 छात्र छात्राओं का ग्रुप यहां घूमने आया था. जिसमें से करीब 30 लोग समुद्र के पास तैराकी के लिए गए थे. उनमें से 8 की डूबने की वजह से मौत हो गयी 3 को सुरक्षित बचा लिया गया जिसमें से एक लड़की की हालत नाजुक है बाकी के 19 छात्र छात्राएं तैरकर सुरक्षित स्थान पर आ गए थे. फिलहाल बचाए गए 3 लोगों की मेडिकल देखरेख जारी है. फिलहाल कोई भी छात्र लापता नहीं है.

प्रशासन ने मरने वालों के नाम भी जारी किये हैं जिनके नाम जमीन अनिकेत, किरण खांडेकर, आरती चव्हाण, अवधूत, नितिन मुतनाडकर, करुणा बेर्डे, माया कोल्हे और पी. महेश हैं.

गौरतलब है कि समुद्र तट पर यह ऐसी पहली घटना नहीं है. अक्सर इन क्षेत्रों में लापरवाही के चलते लोगों की जान जाती रहती है. पिछले साल फरवरी में पुणे में सेल्फी लेने के चक्कर में 14 छात्रों की जान चली गयी थी. लोग हाई टाइड से जुडी चेतावनी पर ध्यान नहीं देते हैं जो कि बहुत खतरनाक साबित होता है.

अक्सर लोग मौज मस्ती के बीच भूल जाते हैं कि यह समय उनके लिए घातक भी हो सकता है. कई बार लोग हाई टाइड के समय लहरों का मजा लेने के लिए भी जानबूझकर ऐसी लापरवाही करते हैं जो कि बेहद खतरनाक साबित होती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.