Viralब्रेकिंग न्यूज़

विकास दुबे ने अमेरिकी हथियार से किया था हमला, कहां से हासिल किए ये हथियार, जांच में जुटी पुलिस

बिकरू कांड को लेकर एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि विकास दुबे ने 2 जुलाई की रात को पुलिस पर हमला करने के लिए जिन कारतूस का इस्तेमाल किया था, वे अमेरिका की हैं। इन कारतूसों को पुलिस ने मौके से बरामद किया था। जिसके बाद इन्हें फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया था। फॉरेंसिक जांच में पाया गया कि ये कारतूस अमेरिकी सेना एक समय पर इस्तेमाल किया करती थी। फॉरेंसिक जांच की रिपोर्ट के बाद अब ये सवाल खड़ा हो गया है कि आखिर विकास दुबे तक ये कारतूस कैसे पहुंची। दरअसल ये कारतूस भारत में प्रयोग नहीं किए जाते हैं और ये अमेरिकन सेना का हथियार रहा है। ऐसे में पुलिस अब ये जांच करने में लगी हुई है कि इतने खतरनाक कारतूस विकास के पास कहां से आया।

साल 1906 में बनाई गई थी ये कारतूस

30-06 विंचेस्टर कारतूस का इतिहास बेहद ही पुराना है और कहा जाता है कि अमेरिकी सेना ने वर्ष 1906 में इस कारतूस को बनाया था। वर्ष 1970 तक अमेरिकन सेना इसका प्रयोग किया करती थी। वहीं अभी भी अमेरिकी और नाटो की सेनाएं इसके उच्चीकृत कारतूस का प्रयोग करती हैं। 30-06 विंचेस्टर कारतूस का इस्तेमाल स्प्रिंग फील्ड राइफल, इनफील्ड राइफल, सेमी ऑटोमेटिक एम-1 ग्रारनेड राइफल, सेमी आटोमेटिक जानसन राइफल, फैमेज माउजर और विभिन्न प्रकार की मशीनगन में किया जाता है। वहीं 2 जुलाई की रात को जब विकास दुबे को पुलिस के आने की जानकारी मिली थी। तो उसने कई सारे हथियारों को जमा कर लिया था। वहीं पुलिस के आते ही उनपर फायरिंग की गई थी। विकास की और से फायरिंग के दौरान 30-06 विंचेस्टर कारतूस का प्रयोग किया गया था। इस दौरान 8 पुलिसवाले शहीद हो गए थे।

अगले दिन फॉरेंसिक टीम और पुलिस को बिकरू गांव से 72 जिंदा और खाली कारतूस मिले थे। जिसमें से एक जिंदा कारतूस और दस खाली खोखे 30-06 विंचेस्टर कारतूस के थे। हैरानी की बात ये है कि भारत में ना ही सेना, ना ही पुलिस इन कारतूस का इस्तेमाल करती है। ऐसे में ये कारतूस विकास ने कहां से हासिल किए थे? ये एक गुत्थी बन गई है। आइजी मोहित अग्रवाल ने इस बारे में कहा कि विंचेस्टर कारतूस मिलने की जानकारी फॉरेंसिक टीम ने दी है। ये विकास दुबे तक कैसे पहुंचे, इसकी जांच की जाएगी।

गौरतलब है कि पुलिस वालों को मारने के बाद विकास ने कई सारे हथियारों को छुपा भी दिया था। हालांकि बाद में पुलिस को ये हथियार जंगलों से मिल गए थे। इसके अलावा विकास ने अपने घर के अंदर भी काफी सारे हथियारों को छुपा रखा था। 2 जुलाई की घटना के बाद विकास के घर की तलाशी लेते हुए घर से काफी कुछ सामान पुलिस के हाथ लगा था। वहीं पुलिस ने विकास के घर को गिरा दिया था। पुलिस का कहना था कि विकास ने अपने घर की दीवारों के अंदर हथियार छुपा रखे थे। जिसके कारण उसके घर को तोड़ना पड़ा। वहीं विकास के पास मौजूद हथियार की जांच के सिलसिले में यूपी पुलिस पंजाब गई है। पुलिस के अनुसार इस राज्य से विकास ने हथियार खरीदे थे।

Related Articles

Back to top button