ब्रेकिंग न्यूज़

खुलासा : आतंकियों को सेना से बचाने के लिए ‘पाकिस्तान’ ऐसे कर रहा है ‘पत्‍थरबाजों’ का इस्तेमाल!

जम्मू कश्मीर – कश्मीर के बडगाम जिले के चदूरा इलाके में मंगलवार को सेना और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ के दौरान सेना को स्थानीय कश्मीरियों के विरोध का सामना करना पड़ा। मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया जबकि मुठभेड़ स्थल के पास पथराव कर रहे पत्थरबाजों को जवाब देते हुए सेना ने तीन पत्थरबाजों को मौत के घाट उतार दिया। सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि, इस मुठभेंड़ में एक आतंकी मारा गया। इस दौरान सेना के कुल 63 जवान घायल हो गये, जो वाकई चौकाने वाली बात है। Pakistan using social media.

 

व्‍हाट्सएप पर ‘पत्‍थरबाजों’ को भेजी जाती है लोकेशन –

Pakistan using social media

आतंकियों से मुठभेंड वाली जगह पर ही पत्थरबाजी हुई जिसमें सेना के कुल 63 जवान घायल हो गए। इस तरह मुठभेंड की जगह पर शुरू हुई पत्थरबाजी पर पुलिस ने पाकिस्‍तान का हाथ होने का शक जताया है। हाल ही में जम्‍मू-कश्‍मीर पुलिस ने पता लगाया है कि पत्‍थरबाजी के लिए कई व्‍हाट्सएप ग्रुप बनाए गए हैं, जिनके एडमिन पाकिस्‍तानी हैं। इन व्‍हाट्सएप ग्रुप के जरिये सेना द्वारा चलाए जा रहे ऑपरेशन की लोकेशन और समय पत्थरबाजों के साथ शेयर किया जाता है।

Pakistan using social media

कश्‍मीर पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक “जैसे ही सेना का एनकांउटर शुरू होता है, पाकिस्‍तान के आतंकी संगठनों के लोग लोकेशन के बारे में सटीक जानकारी भेजकर पत्थरबाजों को उस जगह इकट्ठा होने के लिए कहते हैं।” पुलिस के मुताबिक इन व्‍हाट्सएप ग्रुप्‍स में एक एरिया के युवाओं को दूसरे एरिया के युवाओं से जोड़ने के लिए लिंक भी दिए जाते हैं।

 

 
सेना ने जारी की चेतावनी, ‘पत्थरबाजों’ को मिलेगा जवाब –

Pakistan using social media

व्‍हाट्सएप ग्रुप के जरिये पाकिस्तान के इशारों पर नाच रहे इन ‘पत्थरबाजों’ की हरकत पर सेनाध्यक्ष बिपिन रावत ने कहा कि सुरक्षा बलों के ऑपरेशन में जो कोई भी बाधा डालेगा उससे सेना सख्ती से निपटेगी। सेना के जवानों को सरकार की ओर से साफ निर्देश दिया गया है कि वे पत्थरबाजी होने पर लाठियां छोडकर, राइफल उठाएं। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा कि जो लोग आतंकियों के एंकाउटर में बाधा डाल रहे हैं वो भी आतंकियों के जैसे ही हैं।

Pakistan using social media

एक तरफ पत्थरबाज दिनों दिन सेना के प्रति आक्रामक होते जा रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ, कोर्ट ने सरकार से पेलेट गन को बंद करने के लिए कहा है। लेकिन पत्‍थरबाजों से निपटने के लिए केंद्र सरकार पेलेट गन के इस्‍तेमाल को खत्‍म करने पर तैयार नहीं है। मंगलवार को केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने कहा कि सुरक्षा बल PAVA- चिली (शेल और ग्रेनेड्स), स्टन लैक (शेल और ग्रेनेड्स) का इस्तेमाल करते रहेंगे।

***

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close