समाचार

विकास ने फिल्मी अंदाज में किया आत्मसमर्पण, उज्जैन महाकाल मंदिर पहुंच चिल्लाकर कहने लगा…

कानपुर मुठभेड़ का मुख्य आरोपी विकास दुबे को आखिरकार गिरफ्तार कर लिया गया है। विकास दुबे ने मध्यप्रदेश के उज्जैन स्थित महाकाल मंदिर में आत्मसमर्पण किया है। मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दुबे की गिरफ्तारी की पुष्टि की है और कहा है कि ये पुलिस की एक बड़ी कामयाबी है।

फिल्मी अंदाज में किया आत्मसमर्पण

विकास दुबे की तालाश यूपी पुलिस कई दिनों से कर रही थी। वहीं आज विकास दुबे ने फिल्मी अंदाज में महाकाल मंदिर में आत्मसमर्पण किया है। कहा जा रहा है कि महाकाल मंदिर पहुंचकर विकास दुबे मंदिर के गार्ड के सामने खड़ा होकर तेज-तेज चिल्लाकर कहने लगा, जानते हो मैं विकास दुबे हूं। इसके बाद सुरक्षा गार्डों ने विकास दुबे को गिरफ्तार कर लिया और उस पुलिस के हवाले कर दिया।

अलर्ट पर थी मध्यप्रदेश पुलिस

मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा के अनुसार उनके राज्य की पुलिस अलर्ट पर थी। मध्यप्रदेश पुलिस को इंटेलिजेंस से विकास दुबे के उज्जैन आने की सूचना मिली थी। जिसके बाद विकास को उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार किया गया है।

3 जुलाई से था फरार

गौरतलब है कि कुख्‍यात गैंगस्‍टर विकास दुबे पर पुलिसकर्मियों की हत्‍या का आरोप है। 3 जुलाई में कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों को मारने के बाद से ये फरार था। यूपी पुलिस ने विकास दुबे पर 5 लाख रुपए का इनाम भी रखा था और इसकी दबिश कई राज्यों की पुलिस कर रही थी। विकास दुबे को फरीदाबाद के एक होटल में देखा गया था। हालांकि पुलिस पहुंचने से पहले ही विकास वहां से फरार हो गया था। वहीं दिल्ली से सटे फरीदाबाद से भागकर ये मध्यप्रदेश पहुंच गया था।

इस वजह से मंदिर में किया सरेंडर

मध्यप्रदेश पहुंचकर विकास दुबे ने उज्‍जैन के महाकाल मंदिर में अपना आत्मसमर्पण करने का फैसला लिया। माना जा रहा है कि विकास ने सोच समझकर आत्मसमर्पण के लिए महाकाल मंदिर को चुना था। दरअसल सावन का महीना चल रहा है और इस दौरान महाकाल मंदिर में काफी भीड़ होती है। ऐसे में विकास को पता था कि इस मंदिर में उसका एनकाउंटर होना नामुमुकिन है। खुद को इस जगह पर सुरक्षित पाकर विकास दुबे ने मंदिर के अंदर जाकर सरेंडर कर दिया। उसने मंदिर गार्ड के पास जाकर उन्हें अपनी पहचान बताई और जिसके बाद गार्ड ने पुलिस को सूचित किया गया।

ये पहले से ही अटकलें लगाई जा रही थी कि विकास दुबे अपना आत्मसमर्पण करने की योजना बना रहा था। क्योंकि विकास को अपने एनकाउंटर का डर था। पहले ऐसा माना जा रहा था कि ये दिल्‍ली या हरियाणा के किसी कोर्ट में ये आत्मसमर्पण कर सकता है। लेकिन विकास दुबे ने आत्मसमर्पण करने के लिए मंदिर को चुना। दरअसल कानपुर कांड में विकास दुबे के अलावा और भी बदमाश शामिल थे। जिनमें से कई बदमाशों को पकड़कर यूपी पुलिस ने उनका एनकाउंटर कर दिया था।

विकास दुबे को गिरफ्तार करने के बाद मध्यप्रदेश पुलिस उसे यूपी पुलिस को सौंप देगी। जिसके बाद उसे उत्तर प्रदेश लाया जाएगा।

Back to top button
?>