ब्रेकिंग न्यूज़

घुसपैठ के बाद नया दांव चल रहा है चीन, सीमाओं पर कर रहा है अब ऐसी हरकतें

चीन अब सीमा पर अपने देश से जुड़े प्रतीक बना रहा है। चीन ने ‘फिंगर 4’ और ‘फिंगर 5’ के बीच एक बहुत बड़ा मैंडेरिन प्रतीक (mandarin symbol) और चीन का मानचित्र बनाया है। ये निशान इतना बड़ा है कि इसे सैटेलाइल इमेज में आसानी से देखा जा सकता है। इस प्रतीक की लंबाई लगभग 81 मीटर और चौड़ाई 25 मीटर के आसपास है।

आपको बता दें कि लद्दाख में पैंगॉन्ग लेक के जिन इलाकों को लेकर भारत और चीन के बीच विवाद चल रहा है। चीन ने उसी जगह पर ये प्रतीक और मानचित्र बनाया है। इतना ही नहीं इसी हफ्ते तिब्बत में मौजूद चीनी सेना के ओवरऑल कमांडर वांग हाईजांग की एक तस्वीर सामने आई थी। जिसमें ये भारत-चीन सीमा पर लिखे हुए ‘चीन’ को पेंट कर रहे थे। यानी साफ है कि चीन अब सीमाओं पर अपने निशान बनाकर तनाव पैदा कर रहा है। क्योंकि ‘फिंगर 4’ और ‘फिंगर 5’ को लेकर ही इस वक्त भारत और चीन के विवाद चल रहा है और चीन ‘फिंगर 4’ और ‘फिंगर 5’ को अपना बताने के लिए यहां पर चीनी प्रतीक बना रहा है।

फिंगर 4 को लेकर है दोनों देशों में विवाद

दरअसल भारत फिंगर 1 से फिंगर 8 तक अपना अधिकार मानता है। वहीं चीन फिंगर 8 से फिंगर 4 पर अपना अधिकार जताता है। इस समय फिंगर 4 दोनों देशों के बीच सीमा बनी हुई हैं और इसी जगह पर चीन ने हाल ही में चौंकी बना ली थी। जिसके बाद जवानों के बीच झड़पें हुई थीं। फिंगर 4 इलाके में काफी बड़ी संख्या में चीनी सेना मौजूद है और ये सैनिक भारतीय सेना को फिंगर 8 तक पेट्रोलिंग करने से रोकती है।

फिंगर 4 पर चल रही हैं गतिविधियां

चीन की और से फिंगर 4 पर कई सारी गतिविधियां चल रही है और चीन अपने सैनिकों की तादाद भी बढ़ाने में लगा हुआ है। वहीं तनाव को कम करने के लिए मंगलवार को लद्दाख के चुशुल में लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर दोनों देशों के बीच बातचीत हुई थी। ये बातचीत करीब 12 घंटे तक चली थी और रात को 11:00 बजे खत्म हुई थी। इस बैठक में भारत ने चीन से 22 जून को हुए समझौते का पालन करने और अप्रैल 2020 की यथास्थिति को LAC पर कायम रखने की बात कही है।

हालांकि ये बैठक सफल रही है कि नहीं इसपर अभी कुछ कहा नहीं जा सकता है। लेकिन जिस तरह से चीन अब अपने देश के प्रतीक को विवाद वाली जगह पर बना रहा है। उससे साफ जाहिर है कि चीन विवाद को कम करने की जगह उसे बढ़ाने पर जोर दो रहा है।

गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में पिछले महीने 15 जून को चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प हुई थी। इस हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक कर्नल सहित 20 सैनिक शहीद हो गए थे। ये झड़प चीन की और से शुरू की गई थी और इस झड़प में चीन ने रॉड और छड़ों से हमला किया था। हालांकि भारतीय सैनिकों ने इस झड़प में चीन को उसी की भाषा में जवाब दिया था और चीन के सैनिकों को बुरी तरह से पीटा था। इस हिंसक झड़प में चीन के 40 के करीब सैनिक मारे गए थे। लेकिन चीन इस झड़प में मारे गए अपने सैनिकों की संख्या छुपा रहा है।

वहीं इस हिंसक झड़प के बाद से कई बार दोनों देशों के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर पर बातचीत हुई है। लेकिन अभी तक सीमा पर स्थिति पहले जैसे ही बनीं हुई है।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close