राजनीति

कोरोना के आगे हारे केजरीवाल, कहा- कोरोना का इलाज नहीं, इसके साथ जीने की आदत डालें

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आने वाले समय में दिल्ली से लॉकडाउन हटाने की बात कही है। अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को एक न्यूज चैनल से बात करते हुए कहा कि कोरोना से जंग के लिए दिल्ली पूरी तरह से तैयार है और अब हमें दिल्ली को खोल देना चाहिए। अरविंद केजरीवाल के अनुसार दिल्ली सरकार ने इस मसले पर केंद्रीय सरकार से बात की है। वहीं कोरोना वायरस पर बात करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमें कोरोना के साथ जीने की आदत डालनी होगी। लॉकडाउन कोरोना वायरस का इलाज नहीं है, लॉकडाउन की मदद से केवल कोरोना वायरस को फैलने से रोका जा सकता है ना कि खत्म किया जा सकता है। अरविंद केजरीवाल ने अपने इस बयान में आगे कहा कि ऐसा कभी नहीं होगा कि कोरोना का एक भी केस भविष्य में फिर ना मिले।

कोरोना से लड़ने के लिए दिल्ली है तैयार

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के अनुसार कोरोना वायरस से लड़ने के लिए दिल्ली एकदम तैयार है और दिल्ली सरकार ने लॉकडाउन के दौरान अपनी तैयारियां कर ली हैं। केजरीवाल ने कहा कि 24 मार्च को देश में लॉकडाउन की घोषणा की गई थी और इससे हमें अपनी तैयारी करने का वक्त मिल पाया है। केजरीवाल ने लॉकडाउन के फैसले के लिए पीएम मोदी की तारीफ की है।

देश में फैले कोरोना वायरस को लेकर अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि इस वायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचाई है और हमारे देश में भी यह बाहर से ही आया। इसलिए किसी भी विशेष व्यक्ति को इसका दोषी बताना गलत होगा।

धीरे-धीरे खोला जाए लॉकडाउन

लॉकडाउन खोलने को लेकर केजरीवाल ने कहा कि कोरोना से लड़ने के लिए दिल्ली तैयार है और केंद्र सरकार को चाहिए कि वो अब अर्थव्यवस्था को खोलना शुरू करे। राज्यों से लॉकडाउन को धीरे-धीरे खोला जाए। केवल रेड जोन वाले इलाकों को बंद रखा जाए और बाकी इलाकों को खोल देना चाहिए। केजरीवाल के अनुसार कोरोना पर काबू पाने के लिए दिल्ली सरकार ने पूरा प्लान भी तैयार किया है और इस प्लान के तहत लॉकडाउन के समय दिल्ली सरकार ने कोविड हेल्थ सेंटर बनाएं हैं। पीपीई किट जमा की हैं और टेस्ट किट का भी इंतजाम कर लिया है।

दिल्ली में फैले कोरोना वायरस पर बात करते हुए केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में केवल तीन कंटेनमेंट जोन में 60 फीसदी मौत हो रही हैं और दिल्ली में 35 हजार से अधिक लोगों को होम क्वारनटीन किया गया है। अगर हम सही कदम नहीं उठाते तो इस समय दिल्ली में कोरोना वायरस के 25 से 30 हजार मामले होते।

मरकज का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने बोला कि हमने मरकज से कम से कम 3,200 लोगों को निकाला था। इसमें से 1,100 लोग संक्रमित मिले थे और 700-800 विदेशों से आए लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई थी।

गौरतलब है कि दिल्ली में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है और रोज दिल्ली में नए इलाके कंटेनमेंट जोन की सूची में जुड़ रहे हैं और ऐसे में केजरीवाल अर्थव्यवस्था को अहमियत देते हुए दिल्ली से लॉकडाउन हटाने की बात कर रहे हैं।

Back to top button