अध्यात्म

‘पारद शिवलिंग’ क्या होती हैं? इसे शिवरात्रि पर घर लाने से मिलता हैं ये विशेष फल

कई वेदों और पुराणों में ‘पारद शिवलिंग’ का जिक्र किया गया हैं. इस पारद शिवलिंग को अत्यधिक महत्वपूर्ण और चमत्कारी भी माना गया हैं. ऐसी मान्यता हैं कि इस पारद पत्थर से बने देवी देवता की पूजा करने से मोक्ष प्राप्ति भी संभव हैं. पारद एक प्रकार का पत्थर होता हैं जो मुख्य रूप से चांदी और पारे से मिलकर बना होता हैं. इस पारद पत्थर को यदि हम पूजा पाठ में इस्तेमाल करते हैं तो कई लाभ होते हैं. इसे भगवान शिव का एक अंश भी माना जाता हैं. मान्यता हैं कि इसकी उत्पत्ति स्वयं शिवजी के एक अंश के द्वारा हुई थी. आज हम आपको पारद शिवलिंग की पूजा आराधना से मिलने वाले लाभों से अवगत कराने जा रहे हैं.

पैसों की कमी ना होना

ब्रह्म पुराण की माने तो इस पारद को पूजने से धन लाभ होता हैं. जो व्यक्ति पारद से बनी शिवलिंग का ध्यान लगाता हैं उसे कभी पैसो की तंगी का सामना नहीं करना पड़ता हैं. इसके पूजन से आपके लिए धन अर्जित करने के कई मार्ग खुल जाते हैं. इसके अतिरिक्त पारद कई बिमारियों जैसे ब्लड प्रेशर, अस्थमा जैसी बिमारियों से लड़ने में सहायता करता हैं.

ज्यादा फल

ऐसा कहा जाता हैं कि पारद शिवलिंग की नित्य पूजा पाठ करने से हमें अन्य भक्तों की तुलना में हजार गुना अधिक लाभ प्राप्त होता हैं. शिव पुराण के अनुसार पारद शिवलिंग की पूजा करने वालो के ऊपर माँ लक्ष्मी, कुबेर देव और शिवजी का हाथ होता हैं. इनके जीवन में कभी कोई समस्यां नहीं आती हैं. दुःख इनसे दूर ही रहता हैं.

सिद्धि कराने की जरूरत नहीं

पारद शिवलिंग पहले से सिद्धि प्राप्त होती हैं. इसलिए इसे घर लाने के बद डायरेक्ट पूजा स्टार्ट की जा सकती हैं. आपको इसके लिए किसी प्रकार की सिद्धि या प्राण प्रतिष्‍ठा करवाने की जरूरत नहीं हैं. इसलिए आप इसे घर में लाते ही पूजा बिना विचार किये शुरू कर सकते हैं.

पाप धुलते हैं

पुरानी मान्याताओं की माने तो पारद शिवलिंग की पूजा पाठ करने से सभी पाप नष्ट हो जाते हैं. इसमें पॉजिटिव उर्जा होती हैं जो व्यक्ति के मन को शुद्ध कर देती हैं. इसे छूने मात्र से आपको एक अत्यधिक आनंदित उर्जा का एहसास होता हैं. इस शिवलिंग के पूजन से बिमारी में भी राहत मिलती हैं.

रिश्तों में मिठास

पारद शिवलिंग की पूजा करने से पति पत्नी के रिश्ते मीठे बने रहते हैं. साथ ही घर में शांति का माहोल रहता हैं. इसके साथ ही इसमें माँ सरस्वती का वास भी होता हैं जो आपकी बुद्धि और ज्ञान शक्ति बढ़ाती हैं. अपने घर की नेगेटिव एनर्जी को नष्ट करने के लिए इस पारद को ताम्बे के पात्र में गंगाजल के साथ रखे.

तो ये थे पारद पत्थर से बने देवी देवताओं की पूजा करने के कुछ लाभ. हमें उम्मीद हैं कि आपको ये जानकारी पसंद आई होगी. आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ भी साझा कर सकते हैं. इस तरह वे भी इस अनोखे लाभों का फायदा ले सकेंगे. इसके साथ ही इस तरह की धार्मिक और अन्य ख़बरों के लिए हमारे साथ जुड़े रहीए.

Back to top button