समाचार

‘स्‍वाति’ ने सीमा पर मचाई ऐसी सनसनी की पाकिस्‍तानी सैनिकों की निकल गई हवा! – जानें कौन है ‘स्‍वाति’

नई दिल्ली – शरहद पर इन दिनों ‘स्‍वाति’ की सनसनी फैली हुई है। हाल कुछ ऐसा है कि पाकिस्‍तानी सैनिकों ने ‘स्‍वाति’ के डर से फायरिंग करनी बंद कर दी है। आप सोच रहे होंगे कि ये स्वाति कौन आ गई जिसने पाकिस्तान जैसे टेढ़े देश को एक झटके में सीधा कर दिया, आप सोच रहे होंगे कि आखिर ये कोई लड़की है जिसने पाकिस्‍तान फौज की हवा टाइट कर रखी है, शायद आप ये भी सोच रहे होंगे उसने ऐसा क्या किया जो पाकिस्तानियों की अक्ल ठिकाने आ गई। उसने ऐसा क्‍या किया कि पाकिस्‍तानी फौज उसके डर से कांपने लगी है। कौन है ये ‘स्‍वाति’? यह सवाल आपके दिमाग में अभी भी घुम रहा होगा। तो चलिए हम आपको ज्यादा इंतजार न कराते हुए आपके सभी सवालों क जवाब दे देते हैं। Indian armys locating swati.

  

‘स्वाति’ के सामने बंद हो गई पाकिस्तानियों की बोलती –

भारत-पाकिस्तान की नियंत्रण रेखा पर पिछले 2 महीने से फायरिंग बंद है और इसकी वजह है स्वाति। आपको बता दें कि ‘स्‍वाति’ किसी लड़की का नाम नहीं है बल्कि ‘स्‍वाति’ एक वेपन लोकेटिंग रडार है, जिसे डीआरडीओ ने बनाया है। स्वाति को पिछले 2 महीने से सीमा पर तैनात किया गया है। रक्षा सूत्रों के मुताबिक सीमा पार से तोपों और दूसरे भारी हथियारों से फायरिंग रुकने के पीछे पाकिस्तानी सेना में स्वाति का डर है।

स्वाति वह रेडार है जो फायरिंग वाली जगह की सटीक जानकारी देती है। यह दुश्मन की आर्टिलरी, मोर्टार और रॉकेट लॉन्चरों को तबाह करने के लिए हमारे उपकरणों को गाइड करती है, जिससे दुश्मन पर एक बार में सटीक निशाना लगाकर तबाह किया जा सकता है। इतना ही नहीं, यह हमारी ओर से की गई फायरिंग से दुश्मन को हुए नुकसान को भी ट्रैक कर सकती है।

‘स्वाति’  के कारण अब नहीं होती भारी गोलाबारी –

सेना के सूत्रों से मिली सूचना के अनुसार इस रडार सिस्टम को पाकिस्तानी सीमा वाले इलाके और एलओसी पर लगाया गया है। जबसे इसे तैनात किया गया है इसके नतीजा काफी चौंकाने रहे हैं। सेना के सूत्रों ने दावा है कि पाकिस्तान की तरफ से पहले हो रही भारी गोलीबारी इस रडार के आने के बाद से बिल्कुल बंद है। पाकिस्तानी सेना को इस बात का डर है कि भारतीय सेना का यह रडार उनकी की चौकी और पोस्ट की सटीक लोकेशन दे सकता है जिससे भारतीय सेना उन्हें मुंहतोड़ जवाब दे सकती है।

इस रडार सिस्टम की अहमियत क्रॉस बॉर्डर फायरिंग में काफी है और यह रात में चुपके से दुश्मन का पताकर घात लगाकर हमला करता है। ‘स्‍वाति’ को हथियार तलाशने में सिर्फ दस से 15 मिनट का वक्‍त लगता है। यह 16 हजार फीट तक की ऊंचाई और -30 तापमान से लेकर 55 डिग्री के तापमान में भी निगरानी कर सकता है।

Back to top button