रामजस विवाद की हीरो को कुछ मीडिया ने बना दिया विलेन, दीक्षा ने दिया जवाब- आत्मरक्षा गुंडागर्दी है तो हाँ मैं गुंडा हूँ!

दिल्ली के रामजस कॉलेज विवाद के बाद हुयी हिंसा कि कहानी परत दर परत खुल रही है, ऐसे में अकी बातें सामने आई हैं जिसे जानकर आप दंग रह जायेंगे. बताया जा रहा है कि मीडिया ने जिस लड़की को विलेन बनाकर पेश किया उसके पीछे कि कहानी कुछ और ही थी. दरअसल हिंसा के बाद अख़बारों में एक फोटो छपी थी जिसमें एक लड़की एक लड़के को जमकर पीट रही थी और उसे मीडिया ने गुंडागर्दी बताते हुए छात्र संगठन ABVP से जुडी छात्रा बताया था.

लेकिन अब इस मामले की सच्चाई खुल चुकी है, जिस लड़की कि फोटो अख़बारों ने छापी थी, उसका नाम दीक्षा वर्मा है और वो किसी छात्र संगठन के समर्थन या विरोध में ऐसा नहीं कर रही थी, बल्कि उसके साथ छेड़खानी और बत्तमीजी कि गयी जिसकी प्रतिक्रया के तौर पर उस बहादुर लड़की ने शोहदे की जमकर पिटाई की. ताज़ा रिपोर्ट्स में बताया गया है कि मामला कुछ और ही है. हंगामे की आड़ एक वामपंथी संगठन से जुड़े छात्र ने लड़की से छेड़खानी करने का प्रयास किया जिसका जवाब दीक्षा ने इस तरह से दिया.

खुद सामने आकर बताया सच :

प्रकाशित तस्वीर को जब वामपंथी संगठनों ने अपने हिसाब से गलत जानकारी देते हुए भुनाने का प्रयास किया तो खुद दीक्षा वर्मा ने मामले कि पूरी जानकारी देते हुए फेसबुक पर पोस्ट किया. उन्होंने बताया कि वो हंगामे के दिन वो वहां मौजूद थीं. हंगामे का फायदा उठाते हुए एक लड़के ने कुछ गलत हरकतें करनी चाहीं जिसके बाद उन्होंने उस लड़के को वहीँ धुन दिया, दीक्षा ने बताया कि उस लड़के ने पहले हमला किया और कपडे फाड़ने कि कोशिश की. हंगामे के बाद दोनों पक्ष के लोग गुस्से में थे उस लड़के ने इसका फायदा उठाने कि कोशिश की. और वो अकेला ऐसा नहीं था. वहां खड़े कई लड़के ऐसा करने की कोशिश कर रहे थे. दीक्षा ने जिस लड़के कि पिटाई कि वो वामपंथी संगठन आइसा का सदस्य है.

अगर आत्मरक्षा भी गुंडागर्दी है तो हाँ मैं गुंडा हूँ!

घटना के बाद सोशल मीडिया पर वामपंथियों ने दीक्षा को गुंडा कहकर बदनाम करने की कोशिश की जिसके बाद उन्होंने खुद सच्चाई सबके सामने रखी. पूरे घटना क्रम में वो केवल एक ही लड़के को पीटती दिख रही हैं. दीक्षा के शरीर पर खरोचें भी आई हैं और उन्होंने अपने फटे हुए कपड़ों कि तस्वीर भी सोशल मीडिया पर अपलोड कि है. दीक्षा किसी भी छात्र संगठन से जुडी नहीं हैं. उन्होंने कहा कोई लड़का मेरे साथ ऐसा बर्ताव करेगा तो मैं उसके साथ ऐसे ही पेश आउंगी, मीडिया को मेरा सहयोग करना चाहिए मुझे गुंडा घोषित कर दिया गया. लेकिन ये गुंडागर्दी नहीं आत्मरक्षा है और अगर आत्मरक्षा गुंडागर्दी है तो मुझे गुंडा कहलाने से कोई ऐतराज नहीं है.

देखें वीडियो-

https://youtu.be/sHy6RgdHLT4

गुरमेहर कौर को भी दिया जवाब :

दीक्षा ने वीडियो जारी करके लोगों से अपनी धारणा बदलने और मीडिया के बहकावे में न आने कि अपील कि है. उन्होंने कहा कि गलत रिपोर्टिंग पर भरोसा करके गलत राय न बनायें. वहीं दूसरी तरफ रामजस विवाद से चर्चा में आई गुरमेहर कौर ने भी छेड़खानी कर रहे लड़कों के पक्ष में पोस्टर जारी किया जिसपर दीक्षा ने उसे खुद जवाब दिया है. दीक्षा ने लिखा कि ‘हां मैंने ही छेड़खानी कर रहे उस लड़के को पीटा है और मुझे इस पर गर्व है, तुम लोगों को अपने फेमिनिज्म पर शर्म आनी चाहिए’

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

error: Content is protected !!