नई दिल्ली – महाराष्‍ट्र निकाय और ओडिशा निकाय चुनावों में शानदार प्रदर्शन करने के बाद बीजेपी के हौसले बुलंद हैं। इसी को लेकर बीजेपी ने 25 फरवरी को विजय दिवस के रूप में इस जीत का जश्‍न मनाया। इसके तहत 25 फरवरी को देश भर के जिला मुख्‍यालयों में बीजेपी विजय दिवस मनाया गया। पिछले एक या दो सालों में बिहार को छोड़कर जहां भी चुनाव हुए हैं, वहां बीजेपी ने जिस तरह से प्रदर्शन किया है उसे देखते हुए इस बार यूपी में बीजेपी की आंधी आना तय माना जा रहा है। यही कारण है कि यूपी चुनावों में बीजेपी विरोधियों की नींद हराम हो गई है। यूपी में वोटिंग के बीच आए महाराष्ट्र के नतीजों से बीजेपी के हौसले बुलंद हैं, तो वहीं विरोधियों को अपनी रणनीति पर नए सिरे से विचार करने पर मजबूर कर दिया है। BJP gets booster in UP from BMC result.

मुम्बई बीएमसी का परिणाम का यूपी चुनावों पर पड़ेगा असर –

मुंबई  के बीएमसी परिणाम यूपी के वोटरों पर असर डाल सकता हैं। इसी वजह से मायावती से लेकर अखिलेश राहुल गठबंधन को अब नए सिरे से रणनीति तैयार करने पर काम करना होगा। महाराष्ट्र बीएमसी के नतीजों पर नजर डालें तो 10 महानगर पालिकाओं में कुल 1268 सीटें हैं। जिसमें से बीजेपी को कुल 611 सीटों पर व शिवसेना को 267 पर जीती है। वहीं, एनसीपी को 132 और कांग्रेस को महज 119 पर जीत मिली है। यूपी में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी का गठबंधन है। पीएम मोदी ने पहले ही अखिलेश को इस गठबंधन के नुकसान के बारे में चेता दिया है। अखिलेश यादव भी एक इंटरव्यू के दौरान कांग्रेस से गठबंधन करने को मजबूरी बता चुके हैं।

फिलहाल फैसला तो 11 मार्च को ही सामने आ ही जायेगा। यूपी में अभी 4 चरणों का चुनाव हुआ है और 3 चरण के चुनाव बाकी हैं। यूपी के 403 विधानसभा सीटों में से अभी 262 सीटों पर वोटिंग हुई है। पांचवें चरण में 11 जिलों की 52 सीटों पर वोटिंग आज चल रही है।

यूपी चुनाव लाएगा देश की राजनीति में बड़ा बदलाव –

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पहले ही कह चुके हैं कि इस बार का विधानसभा चुनाव देश की राजनीति में बहुत बड़ा बदलाव लाने जा रहा है। शाह ने कहा कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में जब चुनाव शुरू हुआ था, तब ऐसा लग रहा था कि यहां भाजपा की लहर है लेकिन पूर्वांचल का चुनाव जैसे जैसे नजदीक आ रहा, तो ऐसे लगने लगा है कि भाजपा की लहर नहीं बल्कि सुनामी आने वाली है। शाह ने उत्तर प्रदेश की लचर कानून व्यवस्था पर कहा कि राष्ट्रीय अपराध रिकार्डस ब्यूरो के आंकडों पर नजर डालें तो अपराधों के मामले में उत्तर प्रदेश शीर्ष पर है। किसान, गरीब, महिला या व्यापारी, सभी वर्ग असुरक्षित हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.