नई दिल्ली – आज प्यार करने वाले लोग मुहब्बत का दिन यानि वैलेनटाइन-डे सेलिब्रेट कर रहे हैं। आज के दिन आप लाखों करोड़ों लोगों को या यू कहें प्रेमी जोड़ो को टेडी-बियर या चाकलेट गिफ्ट करते हुए देखा होगा। यह दिन सबको याद रहता है। सबको पता होता है कि 14 फरवरी को वैलेनटाइन-डे है। लेकिन, आप में से कितनों को पता है कि वैलेंटाइन डे यानि 14 फरवरी से शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव का क्या रिश्ता है। अगर आप सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर का इस्तेमाल नहीं करते तो आपको बता दें कि आज यानि वैलेनटाइन-डे के दिन शहीद भगत सिंह टॉप ट्रेंड में हैं और लोग उनको लेकर बेशुमार ट्वीट कर रहे हैं। और कहा जा रहा है कि आज ही के दिन देश के वीर भगतसिंह, राजगुरु और सुखदेव को लाहौर में फांसी की सजा सुनाई गयी थी। Bhagat singh and valentine day.

भगत सिंह और 14 फरवरी में क्या है संबंध –

सबसे पहले तो आपको बता दें कि ये बात सरासर गलत है, आज के दिन ना तो शहीदों को फांसी दी गई थी और ना ही आज के दिन उन्हें कोई सजा सुनाई गई थी। इसलिए ट्विटर पर जो बड़ी-बड़ी बाते कि जा रही हैं वो मात्र केवल अफवाह है। 14 तारीख और भगत सिंह का संबंध केवल इतना है कि आज ही के दिन कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष मदन मोहन मालवीय ने 14 फरवरी 1931 को भगत सिंह की फांसी रोकने के लिए लॉर्ड इरविन के समक्ष दया याचिका दाखिल की थी, जिसे खारिज कर दिया गया था।

सोशल मीडिया पर फैल रही अफवाहों से बचे –

इस न्यूज को लिखने के पीछे हमारा उद्देश्य आपको सच्चाई से वाकिफ कराना है। ना जाने इतिहास कि इन महत्वपूर्ण तारीखों से किसने खिलवाड़ किया और सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर पर एक कहानी गढ़ दी वह वायरल हो गया। इसलिए आपके अनुरोध है कि किसी भी चीज या मुद्दे पर तब तक सही जानकारी न हो उसे वायरल ना करें। जैसे कि कहावत है कि, अधजल गगरी छलकत जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.