कैराना – विधानसभा चुनावों के मद्देनज़र यूपी हर बार की तरह इस बार भी पूरे रंग में है। और हो भी क्यों न ये तो सभी जानते हैं कि देश कि सबसे बड़ी कुर्सी का रास्ता यूपी से ही होकर गुजरता है। यूपी फतह का मतलब आधी जंग फतह। लेकिन इस बार के चुनावों में बयान बाजी ने मर्यादा कि सारी हदें लांघ कर सियासत की नैतिकता पर सवाल खड़ा कर रही है। ऐसा ही एक बयान मजलिस-ए-एहरारे इस्लाम के प्रदेश अध्यक्ष मोहम्मद अली ने दिया है। मोहम्मद अली ने मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव पर बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी की है। Kill Yadav and get 10 million.

एक यादव का कत्ल करने पर मिलेंगे 10 लाख रुपए –

मोहम्मद अली ने अपने बयान में कहा है कि सपा मुस्लिम बहन-बेटियों की इज्जत लूटने पर पांच लाख और कत्ल होने पर 15 लाख देती है। लेकिन अगर कोई एक यादव का कत्ल करता है तो हम उसे दस लाख रुपए देंगे। सभा में मुख्य वक्ता मोहम्मद अली के तौर पर पहुँचे और लोकदल के प्रत्याशी के लिए धर्म-जाति के नाम पर खुलेआम वोट मांगे। सपा को मुस्लिमों पर जुल्म करने वाली सरकार बताते हुए कैराना विधायक को धोखेबाज व नशेड़ी भी कहा।

आजम खान मुसलमानों का दलाल –

मोहम्मद अली यहीं नहीं रुके उन्होंने आजम खान को मुसलमानों का दलाल और सौदागर तक कह डाला। अली ने सपा सरकार पर अपनी हत्या की साजिश रचने का आरोप भी लगाया। मोहम्मद अली कि सभा में बवाल व किसी अप्रिय घटना की आशंका देखते हुए भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात किया गया था। उनके इस बयान के बाद पुलिस प्रशासन ने मोहम्मद अली व उनके बेटे के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करके दोनों के खिलाफ जांच शुरू कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.