सुषमा स्वराज के पार्थिव शरीर को देख भावुक हुए PM मोदी, नम आँखों से जोड़े हाथ, देखे विडियो

पूर्व विदेश मंत्री और भाजपा की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज के बीते मंगलवार हुए अकास्मित निधन से पूरा देश दुखी हैं. उन्होंने कल रात 67 वर्ष की उम्र में दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में अंतिम साँसे ली. डॉक्टरों के अनुसार उनका निधन कार्डियक अरेस्‍ट आने की वजह से हुआ. सुषमा जी प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी के पहले कार्यकाल 2014 से 2019 के बीच विदेश मंत्री रही हैं. ऐसे में उनका पीएम मोदी के साथ एक अच्छी बोंडिंग भी थी. आज सुबह जब पीएम मोदी ने अपनी सहयोगी सुषमा स्वराज का पार्थिव शरीर देखा तो वे बहुत भावुक हो गए. उनकी आँखें नम नज़र आई. वे हाथ जोड़े नम आँखों से खड़े सुषमा जी को देखते रहे. इस दौरान उन्होंने बड़ी मुश्किल से हिम्मत जुताई और सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज के सिर पर हाथ फेरा और उसे सान्तवना दिया.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि फिलहाल सुषमा जी के पार्थिव शरीर को उनके दिल्ली स्थित आवास स्थल पर रखा गया हैं. इसके बाद करीब 12 बजे उन्हें बीजेपी के मुख्यालय ले जाया जाएगा. यहाँ भाजपा नेता सुषमा स्वराज को श्रृद्धांजली अर्पित करेंगे. फिर 3 बजे के आसपास उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. पीएम मोदी के अलावा भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी भी अपनी बेटी के साथ सुषमा जी को देखने पहुंचे. इस दौरान आडवाणी सुषमा जी के पार्थिव शरीर को नम आँखों से देखते हुए बहुत देर शांत खड़े रहे. वहीं उनकी पुत्री प्रतिभा सुषमा जी की बेटी बांसुरी से लिपट गई और रोने लगी. इस दौरान उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू भी सुषमा जी को श्रृद्धांजली देने आए हुए थे.

सिर्फ भाजपा के लोग ही नहीं बल्कि समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सांसद रामगोपाल वर्मा भी इस दौरान सुषमा जी के आवास पर पहुंचे. इस दौरान वे भी नम आँखों के साथ बेहद भावुक दिखाई दिए. इन सभी लोगो ने सुषमा जी को श्रृद्धांजली दी और परिवार के प्रति सहानुभूति भी व्यक्त की.

बता दे की पीएम मोदी को अपनी सहयोगी सुषमा जी के जाने से बहुत आघात पहुंचा हैं. उन्होंने इसके पहले अपने दुःख को ट्वीट कर भी जाहिर किया था. उन्होंने इस ट्वीट में बताया था कि सुषमा स्वराज के निधन से उन्हें व्यक्तिगत क्षति हुई हैं. बरहाल आप आँखें नम कर देने वाली और दिल को भावुक कर देने वाली तस्वीरें और विडियो यहाँ देख सकते हैं.

कैबिनेट मंत्री का पद सँभालते हुए सुषमा को सबसे अधिक लोकप्रियता मिली थी. वे अपनी शानदार स्पीच के लिए भी जानी जाती थी. लोग उन्हें झासी की रानी और भारत की शेरनी नाम से संबोधित किया करते थे. आम जनता के बीच भी वे बहुत लोकप्रिय रही हैं. उनकी ख़ास बात ये थी कि वे सोशल मीडिया पर समस्यां बताने वाले लोगो की भी सुनती थी. ऐसे कई मामले सामने आए जिसमे उन्होंने किसी के पासपोर्ट गुमने की तो किसी के विदेश में फंस जाने की समस्यां हल की. उनकी शख्सियत ही कुछ ऐसी रही थी कि सिर्फ भाजपा के लोग ही नहीं बल्कि विपक्ष पार्टी वाले भी उनकी तारीफ़ किये बिना नहीं रह पाते थे. यक़ीनन सुषमा जी के चले जाने से भारतीय राजनीती को एक बहुत बड़ा नुकसान हुआ हैं.