बॉलीवुड

फिल्म में जिसकी बनी मां बाद में उसी की बनी पत्नी, कुछ ऐसी थी सुनील और नर्गिस की लव स्टोरी

नर्गिस दत्त का नाम बॉलीवुड की मंझी हुई अभिनेत्रियों में शामिल होता है. शुक्रवार को वेटरन एक्ट्रेस की 38वीं पुण्यतिथि है. नर्गिस बॉलीवुड की एक ऐसी अदाकारा थीं जिन्होंने बॉलीवुड को एक नया मुकाम दिया. नर्गिस दत्त पहली ऐसी अभिनेत्री हैं जिन्हें राज्यस्सभा के लिए नामांकित किया गया था और जिन्हें पहला पद्मश्री सम्मान मिला था. 20 साल के करियर में नर्गिस ने अनेकों सुपरहिट फिल्मों में काम किया. नर्गिस का असली नाम फातिमा राशिद था. नर्गिस ने बॉलीवुड एक्टर सुनील दत्त से शादी की जिनसे उनके तीन बच्चे- प्रिया दत्त, नम्रता दत्त और संजय दत्त हुए. नर्गिस दत्त एक अच्छी मां होने के साथ-साथ एक अच्छी पत्नी भी थीं. नर्गिस अपने अभिनय के अलावा अपनी खूबसूरती के लिए भी जानी जाती थीं. वह इतनी खूबसूरत थीं कि राजकपूर और सुनील दत्त जैसे बड़े-बड़े अभिनेता उनकी खूबसूरती के दीवाने थे.

इस तरह आयीं अभिनय में

नर्गिस जी का जन्म 1 जून 1929 को कोलकाता में हुआ था. उनके पिता का नाम उत्तमचंद मोहनदास था. वह एक जाने-माने डॉक्टर थे. उनकी मां का नाम जद्दनबाई था जो कि एक मशहूर नर्तक और गायिका थीं. मां का सहयोग मिलने पर ही नर्गिस फिल्मों में आयीं. नर्गिस की पहली हिंदी फिल्म ‘तलाश-ऐ-हक़’ थी. इस फिल्म में वह बतौर चाइल्ड एक्ट्रेस नजर आई थीं.

ऐसे हुई लव स्टोरी की शुरुआत

फ़िल्मी करियर के अलावा नर्गिस की लव लाइफ भी काफी सुर्ख़ियों में रही. फिल्म ‘मदर इंडिया’ नर्गिस के लिए टर्निंग पॉइंट साबित हुई. इस फिल्म के लिए वह ऑस्कर के लिए नामांकित हुई थीं. इस फिल्म में अभिनेता सुनील दत्त ने उनके बेटे का किरदार निभाया था. लेकिन सुनील को नही पता था कि वह जिसके बेटे का किरदार निभा रहे हैं आगे जाकर उन्हीं के प्यार में डूब जाएंगे. नर्गिस को भी कहां पता था कि उनकी लाइफ में कोई ऐसा आने वाला है जो उन्हें अपना बनाने के लिए दुनिया से लड़ जाएगा.

जब नर्गिस को देखकर नर्वस हुए सुनील

दरअसल, फिल्मों में आने से पहले सुनील दत्त रेडियो में काम किया करते थे. वह बड़ी-बड़ी हस्तिओं के इंटरव्यू लिया करते थे. उस दौर में उन्हें कोई नहीं जानता था और नर्गिस दत्त इंडस्ट्री की बड़ी अभिनेत्री थीं. एक दिन सुनील दत्त को नर्गिस का इंटरव्यू लेना था. नर्गिस सुनील के स्टूडियो पहुंची लेकिन उन्हें देखते ही सुनील नर्वस हो गए. वह उनका इंटरव्यू नहीं ले पाए और उनकी नौकरी जाते-जाते बची. दूसरी मुलाकात दोनों की फिल्म ‘दो बीघा जमीन’ के सेट पर हुई. नर्गिस वहां बिमल रॉय से मिलने आई थीं और सुनील दत्त काम की तलाश में आये थे. जब नर्गिस ने सुनील दत्त को देखा तो उन्हें पिछला वाक्या याद आ गया और वह मुस्कुराते हुए आगे बढ़ गयीं.

सुनील दत्त ने बचाई नर्गिस की जान

आख़िरकार आगे जाकर सुनील दत्त को फिल्मों में काम मिल ही गया. दरअसल, दोनों की तीसरी मुलाकात फिल्म ‘मदर इंडिया’ के सेट पर हुई थी. सुनील जिस अभिनेत्री के दीवाने थे वही फिल्म में उनकी मां का रोल निभा रही थीं. फिल्म की शूटिंग के दौरान सुनील बार-बार नर्गिस के सामने नर्वस हो जाते थे. इस दौरान नर्गिस ने उनकी बहुत मदद की. एक दिन फिल्म की शूटिंग के दौरान सेट पर भयावह आग लग गयी और सुनील दत्त ने नर्गिस की जान बचाई. इस घटना के बाद नर्गिस को सुनील दत्त से प्यार हो गया और दोनों ने साल 1958 में शादी कर ली.

पढ़ें मरने से पहले संजय दत्त की पहली पत्नी ऋचा ने लिखा था ये ख़त, पढ़कर सबकी आंखों में आ गए थे आंसू

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा. पसंद आने पर लाइक और शेयर करना न भूलें.

Back to top button