पाक कलाकारों पर बैन नहीं चाहती ये बॉलीवुड अभिनेत्रियां, कहा- इससे आम जनता को कोई फर्क नहीं पड़ता ये भारतीय अभिनेत्रियों का मानना है कि फ्रीडम ऑफ़ एक्सप्रेशन और स्पीच सबसे अहम है

बीते 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 से ज्यादा जवान शहीद हो गए. पूरा देश जवानों की शहादत पर शोक मना रहा है. ये फिदायीन हमला तब हुआ जब जवानों की गाड़ी का काफिला डिप्लॉयमेंट के लिए बेस कैम्प जा रहा था. इस हमले के बाद देशभर के लोग पाकिस्तान की निंदा कर रहे हैं और जमकर विरोध कर रहे हैं. आम आदमी से लेकर बॉलीवुड सितारे भी इस हमले पर अलग-अलग तरीके से अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं. कोई ट्वीट करके अपना गुस्सा निकाल रहा है तो कोई विडियो बनाकर. अक्सर बॉलीवुड सेलिब्रिटीज ऐसे मामलों पर ट्वीट करने से बचते हैं लेकिन इस बार पूरा बॉलीवुड मानों एक सा हो गया है. इस बार अधिकतर सितारों ने आगे आकर अपनी बात रखी है और पाकिस्तान के इस हरकत पर अपनी भड़ास निकाली है. अमिताभ बच्चन, शाहिद कपूर, विक्की कौशल, प्रियंका चोपड़ा, कंगना रनौत जैसे अनेकों सितारों ने इस हमले की निंदा की है. जहां सब लोग भारत में पाकिस्तानी कलाकरों पर बैन लगाने की बात कर रहे हैं वहीं कुछ अभिनेत्रियां इस बैन के खिलाफ हैं. उनका मानना है की आर्ट और कल्चर पर बैन लगाना इस समस्या का समाधान नहीं है.

दरअसल, भारतीय कंटेंट पर पाक में प्रतिबंध लग गया है जिसके बाद बॉलीवुड अभिनेत्रियां ईला अरुण, दिव्या दत्ता और नीना गुप्ता ने अपनी राय रखी है. हाल ही में शबाना आजमी के पिता कैफ़ी आजमी की 100वीं वर्षगांठ थी और इसी मौके पर मीडिया से बातचीत के दौरान कई सेलेब्स ने पाकिस्तान द्वारा भारतीय कंटेंट पर प्रतिबंध लगाने के बारे में अपनी प्रतिक्रिया दी.

ये कहा दिव्या दत्ता ने

इस मामले पर मशहूर अभिनेत्री दिव्या दत्ता ने कहा, “आर्ट और कल्चर सीमा में नहीं बंधे हैं और उन्हें सीमा में बांधना भी नहीं चाहिए. इस तरह की रोक बिलकुल गलत है फिर चाहे वह पाकिस्तान करे या हिंदुस्तान. कलाकारों पर बैन नहीं लगाना चाहिए. आर्ट और कल्चर तो सांस्कृतिक धरोहर है”.

नीना गुप्ता की ये थी राय

वहीं, इस मुद्दे पर अभिनेत्री नीना गुप्ता का कहना है कि, “प्रतिबंध जैसी कोई चीज नहीं होती. यह सब कुछ राजनीति से प्रेरित है. आम जनता को कोई फर्क नहीं पड़ता, जिसे जो देखना है वो देखता है”.

ईला अरुण ने भी रखी अपनी बात

गायिका और अभिनेत्री ईला अरुण ने भी अपनी बात रखते हुए कहा, “फ्रीडम ऑफ़ एक्शन और फ्रीडम ऑफ़ स्पीच सबसे अहम है, फिर चाहे वह कोई भी देश क्यों न हो. अगर फ्रीडम ऑफ़ एक्सप्रेशन पर रोक लगाईं जाती है तो ये बात बिलकुल गलत है”. बता दें, पाकिस्तान की उच्चतम न्यायालय ने पाकिस्तानी टीवी चैनलों पर भारतीय कार्यक्रम दिखाए जाने पर बैन लगा दिया है.

ये भी पढ़ें पुलवामा में शहीद हुए जवानों को इस शख्स ने दी अनोखे तरह से श्रद्धांजलि, गुदवाएं सभी शहीदों के नाम

ये भी पढ़ें  पुलवामा हमले के बाद सानिया मिर्जा के Tweet पर भड़के लोग, बोलें ‘मैडम शर्म करो, क्योंकि आपने…’