मुख्य समाचार

जौनपुर की रैली में राहुल गाँधी ने जब रुकवाए थे मोदी मुर्दाबाद के नारे …….!

संसद का शीतकालीन सत्र नोटबंदी विरोध के चलते गतिरोध के हत्थे चढ़ गया, पूरे सत्र में कोई काम नहीं हुआ. विपक्ष सरकार पर और सरकार विपक्ष पर बोलने ना देने का आरोप लगती रही. लेकिन ये नहीं समझ में आया कि किसने किसे नहीं बोलने दिया, राहुल गाँधी ने सत्र के ख़त्म होने से पहले ही घोषणा कर दी थी कि वो शीतकालीन सत्र ख़त्म होने के बाद नोटबंदी के खिलाफ जनसभाएं करेंगे, इस तरह शीतकालीन सत्र का दौर ख़त्म हुआ और जनसभाएं शुरू हो गई.

जौनपुर में उन्होंने पीएम मोदी को जमकर घेरा :

जनसभाओं के क्रम में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी सोमवार को उत्तर प्रदेश के जौनपुर पहुंचे, जौनपुर में उन्होंने पीएम मोदी को जमकर घेरा, काले धन से लेकर किसानों की समस्याओं तक. राजनैतिक बयानबाजी के बीच राहुल गाँधी कुछ ऐसा कर गये जो राजनैतिक जनसभाओं में आम तौरपर देखने को नहीं मिलता.

राहुल गाँधी ने पीएम मोदी को 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान उनके जुमलों पर घेरना शुरू किया, विदेशी बैंकों से काला धन लाने की बात, 15-15 लाख हर खाते में आने की बात, नोटबंदी के संसद में पीएम के बयानों की बात, हर तरफ से उन्होंने पीएम को घेरने की कोशिश की.

कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी शुरू कर दी :

जनसभा में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी शुरू कर दी, कांग्रेस के कार्यकर्ता पीएम मोदी के विरोध में नारेबाजी करने लगे, तभी राहुल गाँधी ने कुछ ऐसा कहा जिसने कुछ पल के लिये सुनने वालों के कान खड़े कर दिये, लोग भौचक्के रह गये कि विरोध की राजनीति में अभी भी ऐसे बयान आ सकते हैं.

दरअसल जौनपुर में रैली के दौरान जब राहुल गाँधी मंच पर पहुंचे तो कुछ उत्साही कार्यकर्ताओं ने पीएम मोदी के मुर्दाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिये, इस बात पर राहुल गाँधी ने कहा-

‘ये कांग्रेस की रैली है और कांग्रेस की रैली में मुर्दाबाद के नारे नहीं लगने चाहिये’

उन्होंने कहा कि मोदी जी देश के प्रधानमंत्री हैं और उनसे हमारा वैचारिक मतभेद हो सकता है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि हम उनके मुर्दाबाद के नारे लगायें, कोंग्रेस उपाध्यक्ष के ऐसा कहने पर नारेबाजी बंद हो गई, राहुल गाँधी ने जौनपुर रैली में भाषण की शुरुआत भी पीएम मोदी पर हमला करते हुये की और अंत तक पीएम पर हमले करते रहे.

 

देखिए वीडियो –

Related Articles

Close