विशेष

जानिए कैसे गांव की बेटी का कमाल, सोलर पावर लेकर न्यूयॉर्क से पहुंची राजस्थान

अमेरिका की कॉरपोरेट वकील अजीयथा शाह न्यूयॉर्क का ऐशोआराम छोड़ राजस्थान अपने गांव लौट आई है। 29 वर्षीय अजीयथा ने राजस्थान के उत्तर-पश्चिमी इलाकों में कम लागत पर बिजली पहुंचाने की मुहीम ‘फ्रंटियर मार्केट’ शुरू की है। अजीयथा का कहना है कि सरकार गांव में बिजली पहुंचाने की कोशिश में लगी हैं लेकिन उसका उद्देश्य बिजली न रहने पर किसी और तरीके से बिजली की भरपाई करना है। इस बात को ध्यान में रखकर अजीयथा ने सोलर पावर से चलने वाली चीजों को गांव में पहुंचाने का काम शुरू कर दिया है।
2008 में राजस्थान घुमने गई अजीयथा ने देखा था कि वहां के कई गांव में बिजली नहीं है। कुछ गांव में तो बिजली का पहुंचना बहुत कठिन है। लोग मिट्टी के तेल के दीये जलाकर काम करते हैं। बच्चे भी उसी रोशनी में पढ़ाई करते हैं। अजीयथा ने उसी दिन फैसला कर लिया था की वो इन लोगों के लिए कुछ न कुछ जरूर करेगी। अजीयथा  अपने इस फैसले पर कायम रही और आज वह इसके लिए अमेरिका छोड़ गांव में आकर बस गई है।

अपने परिवार के साथ न्यूयॉर्क में रह रही अजीयथा शाह ने अपना सामान पैक किया और पहुंच गई राजस्थान अपने गांव। हालांकि उसके माता-पिता को काफी आश्चर्य हुआ कि अपनी न्यूयॉर्क की कॉरपोरेट वकील की नौकरी छोड़कर वो राजस्थान अपने गांव क्यों चली गई। अजीयथा का परिवार कई वर्षों पहले राजस्थान छोड़ अमेरिका आकर बस गया था। वो अपने परिवार के साथ न्यूयॉर्क के स्कार्सडेल में रहती थी। उसने युनिवर्सिटी ऑफ टफ्ट्स से ग्रेजुएशन किया है।

अजीयथा ने बताया कि आज भी गांव के लोगों को सोलर पावर के बारे में जानकारी नहीं है। साथ ही गांव वालों को इस पर विश्वास भी नहीं है। उन्हें इसके बारे में जागरूक करना भी जरूरी है। इस दिशा मे अजीयथा ने वहां के लोकल उद्यमियों को साथ लेकर एक अनोखा सोलर पावर डिस्ट्रीब्यूशन मॉडल तैयार किया है। इस मॉडल की मदद से एक ब्रिक और मॉर्टर सिस्टम तैयार किया है जो गांव वालों को सोलर पावर के बारे में शिक्षित करती है।

अजीयथा अब तक 85000 से अधिक सोलर उत्पादों की बिक्री कर चुकी है और 225 रिटेल आउटलेट बना चुकी है। आज के समय में अजीयथा का नाम सोलर पावर उत्पादों का निर्माण करे वाली सूची में देश की एक नामी बिजनेस मैन के रूप में आता है।

Related Articles

Close