नई दिल्ली – 26 जनवरी को देश के कई बड़े शहरों में आतंकी हमले की साजिश रची जा रही है। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक गणतंत्र दिवस के मौके पर आतंकी भारत में पेरिस जैसे बड़े आतंकी हमले को अंजाम दे सकते है। सूत्रों के अनुसार देश में बड़े हमले की साजिश की जा रही है। इस सूचना के बाद से दिल्ली समेत पूरे देश में सुरक्षा के कड़े इंतजाम कर दिए गए हैं। हर एक चीज की सख्ती से जांच की जा रही है।  Terrorist attack on 26 January.

 

आतंकियों की कॉल ट्रैक, 26 जनवरी से पहले हमले की साजिश –

Terrorist attack on 26 January

आतंकियों की एक कॉल को इंटरसेप्ट करने के बाद यह खुलासा हुआ है कि बांग्लादेशी आतंकी संगठन हिजबुल तहरीर 26 जनवरी से पहले भारत में एक बड़े हमले की साजिश रच रहा है। आतंकवादियों की इस फोन कॉल से ऐसा पता चला कि आतंकी संगठन का आतंकी ‘डॉक्टर मेडिसिन लेकर जाएगा’ कोडवर्ड का इस्तेमाल कर रहा था। खुफिया एजेंसियों ने जब इसे डीकोड किया तो मामले का खुलासा हुआ। डीकोड किए जाने के बाद पता चला है कि 23 जनवरी को उत्तर भारत के राज्यों में हिजबुल तहरीर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद, इंडियन मुजाहिदीन और लश्कर-ए-तैयबा के सहयोग से भारत के अलग-अलग स्थानों पर बम धमाके या आत्मघाती हमला कर सकता है।

देश भर में हमले का ‘अलर्ट’, एनआईए के 10 संदिग्ध गिरफ्तार –

Terrorist attack on 26 January

राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने राज्यों की एटीएस के साथ संयुक्त ऑपरेशन कर 10 से अधिक संदिग्ध आतंकियों को हिरासत में लिया है। एनआईए सभी संदिग्धों से पूछताछ कर रहा है। आईबी ने महाराष्ट्र पुलिस को अलर्ट जारी कर रहा है कि भारत में जमात-उद-दावा, लश्कर-ए-तोएबा, जैश-ए-मोहम्मद और हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकियों के चार ग्रुप मौजूद हैं। आतंकियों की ये चार टीमें एक राजस्थान, दूसरी महाराष्ट्र, तीसरी उत्तर प्रदेश और चौथी टीम ओडिशा में है।

Terrorist attack on 26 January

गौरतलब है कि अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा का भारत दौरा काफी नजदीक है। ओबामा की आगामी भारत यात्रा को देखते हुए आतंकी हमले की खतरे से निरटने के लिए खुफिया जानकारी आने के बाद मुंबई में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। आपको बता दें कि आतंकियों कि इस साजिश को लेकर देश भर में ट्रिपल हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। इस आशंका को लेकर देश भर में और खास तौर से दिल्ली में सुरक्षा व्यवस्था काफी कड़ी कर दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.