नहीं थम रहा मध्यप्रदेश में BJP से जुड़े लोगों की हत्या का दौर, अब RSS कार्यकर्ता का भी हुआ कत्ल

जब कोई राजनीति में आता है तो उसके जितने दोस्त बनते हैं उससे कहीं ज्यादा दुश्मन पैदा हो जाते हैं. कुछ ऐसा ही भाजपा के कुछ नेताओं के साथ हो रहा है और अब मध्यप्रदेश में भाजपा पदाधिकारियों की हत्या के बाद कार्यवाह की भी हत्या हो गई और इन सबके पीछे किसका हाथ है इसके बारे में कोई सुराग नहीं मिल पा रहा. उस कार्यवाह का शव एक खेत में मिला और उनकी हत्या की खबर से क्षेत्र में सनसनी फैल गई. इस घटना की खबर मिलते ही विधायक दिलीप मकवाना भी अपने समर्थकों के साथ उस जगह पहुंचे जहां पर उस कार्यवाह का शव मिला. इस हत्या से बीजेपी सदस्य परेशान हैं क्योंकि नहीं थम रहा मध्यप्रदेश में BJP से जुड़े लोगों की हत्या का दौर, इससे पहले मध्यप्रदेश में भाजपा से जुड़े चार लोगों की हत्या हो चुकी.

नहीं थम रहा मध्यप्रदेश में BJP से जुड़े लोगों की हत्या का दौर

कुछ समय पहले मंदसौर में भाजपा के नगर पालिका अध्यक्ष की हत्या का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि बुधवार को आरएसएस से जुड़े हिम्मत पाटीदार की भी हत्या ह गई थी और ये पाटीदार शिवपुर मंडल के कार्यवाह रह चुके हैं. उनका चचेरा भाई संजय पाटीदार इस समय आरएसएस के जिला प्रमुख हैं. रतलाम जिले के बिलपांक थाना क्षेत्र के गांव कमेड़ में बुधवार की सुबह हिम्मत पाटीदार जिनकी उम्र 36 साल थी उनका शव खेत में मिला. उस युवक की गला रेंतकर हत्या की गई है और बाद में उसके चेहरे को जला दिया गया. हिम्मत मंगलवार को खेत पर पानी पिलाने गया था. घटना स्थल से पुलिस को एक टॉर्च भी बरामद हुई है और वहीं युवक की मोटरसाइकिल उसके शव से 10 मीटर की दूरी पर मिली.

हिम्मत पाटीदार

मृतक भाजपा से जुड़ा है ऐसा बताया जा रहा है जबकि वे आरएसएस के मंडल में पदाधिकारी रह चुके हैं. इधर इस नेता की मौत हुई तो दूसरी ओर मंदसौर में शिवसेना ने नगर पालिका अध्यक्ष की हत्या की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है. जब पुलिस ने ऐसा नहीं करने को कहा तो गाधी चौराहे पर सेस रैली निकाली गई. यह रैली कंट्रोल रूम तक गई जहां पर सीएसपी को ज्ञापन सौंपा गया.

बड़वानी में इस भाजपा नेता की हत्या हुई

मनोज ठाकरे

भाजपा नेताओं को विरोधी पक्ष के नेता बिल्कुल पसंद नहीं करते और ऐसा बिल्कुल सच है. तभी पिछले हफ्ते ही मध्यप्रदेश के बड़वानी में तीन दिन के अंदर भाजपा नेता की हत्या की यह दूसरी वारदार हुई है. बड़वानी भाजपा के मंडल अध्यक्ष मनोज ठाकरे रविवार की सुबह से बाहर ही टहल रहे थे. उसी समय थोड़ी दूर पर कुछ लोग आए और पत्थरों से कुचलकर उनकी हत्या कर दी. उनका शव बड़वानी सेंधवा रोड पर पड़ा मिला था. ये हत्या पत्थर से हुई इस बात का पता पुलिस को तब चला जब उन्हें खून से सना एक बड़ा पत्थर वहां मिला. ऐसा माना जाता है कि भाजपा नेता मनोज ठाकरे अंतरसिंह आर्य के बहुत करीबी थी और वे कई सालों से राजनीति में थे. ऐसा भी बताया जा रहा है कि समाज के कार्यों में भी ठाकरे सक्रिय रहते थे और उनकी हत्या के बाद समाज में शोक की लहर दौड़ गई है.